अभी ज्यादा दिन नहीं हुए जब फेसबुक पर sarahah एप लांच हुआ और देखते ही देखते कई लोगों ने डाउनलोड करना शुरू कर दिया | मुझे भी अपने कई सहेलियों की वाल पर sarahah एप दिखाई दिया और साथ ही यह मेसेज भी की यह है मेरा एक पता जिसपर आप मुझे कोई भी मेसेज कर सकते हैं | वो भी बिना अपनी पहचान बाताये | आश्चर्य की बात है इसमें मेरी कई वो सखियाँ भी थी जो आये दिन अपनी फेसबुक वाल पर ये स्टेटस अपडेट करती रहती थी की ,मैं फेसबुक पर लिखने पढने के लिए हूँ , कृपया मुझे इनबॉक्स में मेसेज न करें | जो इनबॉक्स में बेवजह आएगा वो ब्लाक किया जाएगा | अगर आप कोई गलत मेसेज भेजेंगे तो आपके मेसेज का स्क्रीनशॉट शो किया जाएगा , वगैरह , वगैरह | मामला बड़ा विरोधाभासी लगा , मतलब नाम बता कर मेसेज भेजने से परहेज और बिना नाम बताये कोई कुछ भी भेज सकता है | जो भी हो इस बात ने मेरी उत्सुकता सराह एप के प्रति बढ़ा दी | तो आइये आप भी जानिये सराह ऐप के बारे में ," की ये कितना ख़ास है और कितना बकवास है |


क्या है sarahah  app 

                   सराह एक मेसेजिंग एप है | जिसमें कोई भी व्यक्ति अपनी प्रोफाइल से लिंक किसी भी व्यक्ति को मेसेज भेज सकता है |मेसेज प्राप्त कर सकता है | सबसे खास बात इसमें   उसकी पहचान उजागर नहीं होगी |यानी की बेनाम चिट्ठी | सराह एप में आप मेमोरी भी क्रीऐट कर सकते हैं व् उन लोगों के नामों का भी चयन कर सकते हैं जिन्हें  आप मेसेज भेजना चाहते हैं |आप साइन इन कर उन लोगों को भी खोज सकते हैं जिनका पहले से एकाउंट है | इसे डाउनलोड करने के लिए आप को इसके वेब प्लेटफॉर्म  पर जा कर एकाउंट बनाना होगा |आप इसे गूगल प्ले स्टोर या एप्पल के एप स्टोर से भी डाउनलोड कर सकते हैं |इसकी ऐनड्रोइड की एप साइज़ १२ एम बी है |

कहाँ से आया ये sarahah  app 

                                  सराह एप सऊदी अरेबिया से आया है | जिसे वहां के वेब  डेवेलपर  Zain al-Abidin Tawfiq ने डेवेलप किया है | पहले उन्होंने इसे इस लिए डेवेलप किया था की कम्पनी के     कर्मचारी  मालिकों को अपना फीड बैक दे सके जो वो खुले आम सामने सामने  नहीं दे पाते हैं | पर देखते ही देखते यह एप वायरल  हो गया | अबक इसके ३० लाख से भी अधिक यूजर बन चुके हैं | भारत में हर
दिन इसे हजारों लोग डाउनलोड कर रहे हैं |


क्या  है sarahah  का मतलब 
                             " सराह " का शाब्दिक अर्थ है इमानदारी | पर जब आप अपना नाम छुपा कर कुछ भेज रहे हैं तो इमानदारी कहाँ रहती है | हां , सकारात्मक आलोचना की जा सकती है | अगर आप सामने कहने से परहेज करते हों | पर ये सुनने वाले किए ऊपर है की वो अपनी आलोचना सुन कर आपको ब्लॉक करता है या नहीं |

क्या खास है sarahah app  में 

                                 सराह  मेसेज देने ,लेने के अतिरिक्त कुछ ज्यादा नहीं कर सकता | हो सकता है भविष्य में इसमें कुछ फीचर जोड़े जाए | वैसे मेसेज देने के लिए व्हाट्स एप व् फेसबुक मेसेंजर भी है | तो फिर इसमें ख़ास क्या है | जहाँ तक आलोचना करने का सवाल है तो लोग फेक फेसबुक आई डी बना कर भी कर लेते हैं | फेसबुक पर फेक आई डी वाले लंबी - लंबी बहसे करते देखे गए हैं | कई की ओरिजिनल आई डी है | पर उन्होंने नाम के अलावा  बाकी सब हाइड कर रखा है | फोटो भी उनकी अपनी नहीं है | मतलब ये की वो लोग कुछ भी लिखने के लिए स्वतंत्र हैं | वैसे भी अगर आप की फ्रेंड लिस्ट छोटी है तो इसमें कुछ भी ख़ास नहीं |क्योंकि सब आपके ख़ास जान - पहचान वाले ही होंगे |  हां अगर फ्रेंड लिस्ट बड़ी है और  कुछ ऐसे लोग आपसे जुड़े हैं जो आपको मेसेज करने की हिम्मत नहीं कर पा रहे हैं तो वो इस एप के माध्यम से कर सकते हैं | दिल की बात कह सकते हैं | यहाँ पर बात सिर्फ तारीफ की नहीं , बेहूदा मेसेजेस व् बेफजूल आलोचना की भी हो सकती है |


                                                            अगर आप किसी बिजनिस या क्रीएटीव  फील्ड से जुड़े हैं तो आप इसका प्रयोग " सेल्फ प्रोमोशन " में कर सकते हैं | ऐसे में आप नकारात्मकता व् आलोचना से भरी सैंकड़ों पोस्टों को भूल जाइए , व् कुछ तारीफों वाली चिट्ठियों को अपनी वाल पर शेयर करिए | जिससे लोगों को लगे आपका काम या बिजनेस कितना  प्रशंसनीय है |आपके फ्रेंड्स व् फोलोवेर्स अचंभित  हो सकते हैं की आप या आपका काम कितना लोकप्रिय है | इसके लिए आप अच्छी सी चिट्ठियाँ अपने खास दोस्तों या परिवार के सदस्यों से खुद ही लिखवा सकते हैं | ये बात उनके लिए है जिनके लिए सेल्फ प्रोमोशन में सब कुछ जायज है  पर इसके लिए आपको इतना मजबूत होना पड़ेगा की आप अनेकों अवांछित चिट्ठियों से अप्रभावित रह सकें |

क्या बकवास है sarahah app में 

                                      बेनामी चिट्ठियाँ , बेनामी फोन कॉल्स , अब बेनामी मेसेजेस  महिलाओं के लिए हमेशा खतरे की घंटी हैं | sarahah चाहें जितनी ईमानदारी का दावा करें पर अश्लीलता में ये इमानदारी बर्दाश्त नहीं की जा सकती | एक खबर के मुताबिक़ एक लड़की ( नाम जानबूझकर गुप्त रखा है ) ने सराह एप डाउन लोड  किया | उसे रेप के मेसेजेस मिलने लगे | उसने इसका स्क्रीनशॉट twitter पर शेयर किया है |


                                                      *     उसने एप डीलीट कर दिया | पर क्या ये गंदे शब्द उसके दिमाग से डीलीट हो सकेंगे |जाहिर है जिसने भी ये एप डाउनलोड किया उसके मन में ये जानने की इच्छा होगी की लोग मेरे बारे में क्या सोंचते हैं  ( मतलब तारीफ़ सुनने की इच्छा ,कुछ हद तक सकारात्मक आलोचना भी )|  एक सर्वे के अनुसार   महिलाओं को सुन्दरता पर,  किस करने , डेट पर ले चलने व् याद में मजनू बनने  के मेसेजेस बहुतायत से मिल रहे हैं | जो उनकी परेशानियों  में इजाफा  ही करेंगे |इसके अतिरिक्त  स्त्री हो या पुरुष नकारात्मक आलोचना से भरे मेसेज मानसिक स्वास्थ्य पर बुरा असर डालते हैं | अगर व्यक्ति मानसिक तौर पर बहुत मजबूत नहीं है तो ये मेसेजेस उसके आत्मविश्वास को तोड़ते हैं | इससे अपने काम  के प्रति उदासीनता , फेसबुक छोड़ने व् अवसाद की वजह भी पैदा हो  सकती है |


*आज का जमाना फ्रेनिमीज का है | मतलब आप की दोस्त भी है और आपकी प्रतिस्पर्द्धी भी | ऐसे में आपकी अपनी खास सखी या मित्र लगातार आपके काम पर नकारात्मक फीड बैक देके आपका मनोबल तोड़ भी सकता है | वो भी बिलकुल छिपे हुए | वो कहते हैं  आस्तीन के सांप |


अब रही बात अच्छे सकारात्मक मेसेजेस की | तो कोई किसी की तारीफ फ्री में नहीं करता | वो नाम तो बताना ही चाहेगा |  जैसे की  लेखन क्षेत्र को ही लें | कोई आप के लेखन की  बहुत तारीफ करेगा | आप खुश हो कर उसे अपनी फेसबुक वाल पर शेयर करेंगे | फिर इनबॉक्स मेसेज आएगा ," जी ये तो मैंने लिखा | वही इनबॉक्स मेसेज जिससे आप बचना चाहते थे | अब मजबूरन आप को रिप्लाई करना पड़ेगा .. thank you so  much | इसे कहते हैं आ बैल मुझे मार |


*एक और बड़ा खतरा जो सराह एप से हो सकता है वो है हैकर्स से | ये सब सब जानते हैं की कोई भी साइट हैक हो सकती है | तो सराह क्यों नहीं | अगर आप अंधाधुंध उबाऊ , पकाऊ या मेसेजेस डाल रहे हैं तो आप की आईडेंटीटी जग जाहिर हो सकती है | जैसा की सन २००२ में कनाडा की ऐश्ले मेडिसन नाम की डेटिंग साइट के साथ हुआ था | १३ साल से चल  रही इस साइट को हैक करने के बाद हैकर्स ने यूजर्स को धमकी देनी शुरू कर दी की वो उनकी पहचान उनके घरवालों को बता देंगे | जानकारी के मुताबिक इसके एवज में उन्होंने साइट से धन की मांग की थी |  हैकर्स आपकी फेसबुक आईडी भी हैक  कर सकते हैं | आपके नाम से दूसरों को मेसेजेस भेज सकते हैं |




जानिये sarahah एप की प्राईवेसी पालिसी के बारे में 

                                                                  सराह एप कितना खास कितना बकवास जानने के बाद आपको ये जानना जरूरी है की आप ने अगर  सराह एप डाउनलोड कर लिया है तो इसकी प्राइवेसी पोलिसी क्या है | अगर आपको अवांछित मेसेजेस मिल रहे हैं तो आप मेसेज की रिपोर्ट कर सकते हैं यूजर को ब्लाक कर सकते हैं | पर किसने ये भेजा है पता लगाना आसान नहीं है | सेटिंग में जा कर आप दो काम कर सकते हैं ...
1 ) ये मेसेज सर्च में न दिखाई दे 
२ ) नान रजिस्टर यूजर्स आपको मेसेज न कर सकें 
                                                    फिर भी किसने आप को मेसेज भेजा है ये आप किसी तरह से नहीं जान सकते | सराह एप में लॉग  आउट तो दिखता है पर डिलीट कैसे करें इसका कोई ऑप्शन नहीं है | इसके लिए आपको मेसेजिंग सर्विस के वेबसाइट वेर्जन कर लॉग  इन करना पड़ेगा |

                                                                       सराह एप से पहले सीक्रेट और व्हिस्पर जैसे मिलते जुलते आ  चुके है | सकारात्मक आलोचना या प्रशंसा सुनने के लिए अगर आपने सराह एप डाउनलोड किया है तो याद रखिये एक नकारात्मक  मेसेज बहुत तकलीफ भी देसकता है | फैसला आप पर है |

वंदना बाजपेयी 




यह  भी पढ़े ...

आखिर हम इतने अकेले क्यों होते जा रहे हैं ?

क्यों लुभाते हैं फेसबुक पर बने रिश्ते

क्या आप भी ब्लॉग बना रहे हैं ?

आत्महत्या किसी समस्या का समाधान नहीं






Share To:

atoot bandhan

Post A Comment:

10 comments so far,Add yours

  1. आपने तो मेरे मन के हर भावों को शब्दों में गढ़ दिया है वंदना जी... इस पोस्ट के लिए साधुवाद आपको....मैं भी यही सोंच कर इस ऐप को डाउनलोड नहीं किया कि तारीफ़ तो कमेंट बॉक्स में मिल ही जाता है जितना मिलना चाहिए... और स्वस्थ आलोचक तो थोड़ी बहुत सकारात्मक आलोचना भी कर ही देते हैं..!

    ReplyDelete
  2. जी किरण जी , धन्यवाद

    ReplyDelete
  3. वंदना जी, बिल्कुल सटीक आकलन किया है आपने। पहचान छिपाकर संदेश देने का कोई कारण ही नही है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद ज्योति जी

      Delete
  4. Jankari yuks alekh ke liye shukriya, chipa kar kya likhna Swasthya aalochna naam ke sath to kya hard hi... Divya shukla

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद दिव्या जी

      Delete
  5. टेक्नोलोजी के फायदे भी है और नुक्सान भी | बेहतर है की किसी नयी चीज को पूरी तरह से जान लेने के बाद उसका उपयोग करें ... nice article

    ReplyDelete