आस्थाएं तर्क से तय नहीं होतीं

2
90






दुर्गा अष्टमी पर विशेष – आस्थाएं तर्क से तय नहीं होती 


            आज दुर्गा अष्टमी है | ममतामयी माँ दुर्गा शक्ति
स्वरूप हैं | एक तरफ वो भक्तों पर दयालु हैं तो दूसरी तरफ आसुरी प्रवत्तियों का
संहार करती हैं | वो जगत माता हैं | माँ ही अपने बच्चों को संस्कार शक्ति और ज्ञान
देती है | इसलिए स्त्री हो या पुरुष सब उनके भक्त हैं | वो नारी शक्ति व् स्त्री
अस्मिता का प्रतीक हैं | जो अपने ऊपर हुए हमलों का स्वयं मुंह तोड़ जवाब देती है | दुर्गा
नाम अपने आप में एक मंत्र है | जो इसका उच्चारण करते हैं, उन्हें पता है की
उच्चारण मात्र से ही शक्ति का संचार होता है | नवरात्रि इस शक्ति की उपासना का
पर्व है |



             अभी पिछले दिनों कुछ पोस्ट ऐसी
आयीं, जिनमें माता दुर्गा के बारे में अभद्र शब्दों का इस्तेमाल करा गया | माता
दुर्गा के प्रति आस्थावान आहत हुए | इनका व्यापक विरोध हुआ |ये एक चिंतन का विषय
है | क्योंकि

 *ये आस्था पर प्रहार तो है ही माँ दुर्गा के लिए
अभद्र शब्दों का प्रयोग करने वाले स्त्री विरोधी भी हैं |ये एक सामंतवादी सोंच हैं
|जिसका विरोध करना ही चाहिए |






* सोंचने वाली बात
हैं की वो माँ दुर्गा को मिथकीय करेक्टर  कह
रहे हैं | अफ़सोस मिथकीय हो या रीयल, ये जहर उगलने वाली गालियाँ स्त्री के हिस्से
में आई हैं|


* आस्थाएं तर्क से
परे होती हैं | ये सच है की आदिवासियों का एक समुदाय महिषासुर  की पूजा करता है |और इस पर किसी को आपत्ति भी
नहीं है | होनी भी नहीं चाहिए |मुझे अपने पिता व् पति की तबादले वाली नौकरी होने
के कारण कई आदिवासी जातियों से मिलने बात करने का अवसर मिला | कई घरों में काम
करने वाले भी थे | उन सब के अपने अपने इष्ट देवता हैं  | सब महिसासुर की पूजा नहीं करते हैं  | कई दुर्गा माँ की आराधना भी करते हैं |



*  परन्तु बड़े खूबसूरत तरीके से अपनी बात को न्याय संगत कहने के लिए तर्क गढ़े जा रहे हैं | इन तर्कों को गढ़ने की शुरुआत  कहाँ से हुई पता नहीं | पर आम जनता के सामने इसका
खुलासा जे एन यू-स्मृति इरानी प्रकरण के बाद हुआ | एक जनजातीय समुदाय में पूजे
जाने वाले महिसासुर को न सिर्फ समस्त जनजातियों, आदिवासियों और द्रविड़ों के मसीहा
के रूप में स्थापित किया जा रहा है | क्या इसे “मेकिंग ऑफ़ न्यू गॉड” की संज्ञा में
रखा जाए ? पर क्यों ? कहीं ये अंग्रेजों की कुटिल “डिवाइड एंड रूल” की तरह किसी
राजनैतिक पॉलिसी का हिस्सा तो नहीं | इसके लिए दुर्गा का चयन किया गया | जिन्हें पूरब,
पश्चिम, उत्तर, दक्षिण में व्यापक मान्यता मिली है | समझना होगा की क्या इसके पीछे
हमें वोट बैंक के रूप में इस्तेमाल करने की साजिश है|पूजा से किसी को आपत्ति नहीं
है,सत्ता के खेल से आपत्ति है |





*पुराणों को मिथकीय बता
कर कुछ अन्य ग्रंथों का नाम दिया लिया जा रहा है | या यूँ कहें सबूत के रूपमें पेश
किया जा रहा है | सबूत कैसा ? अगर एक मिथकीय है तो क्या दूसरा मिथकीय नहीं हो सकता
|वही लोग जो  आज की खबर पर भरोसा नहीं करते | हर खबर को  वामपंथी और दक्षिण पंथी चश्मे से देखते हैं  |वही आज पुराने सबूत ले कर लड़ रहे हैं या लडवा रहे हैं |उन्हें आस्था से मतलब नहीं उन्हें जीतना हैं | और जीतने के लिए हद दर्जे की गन्दी भाषा तक जाना है |किसलिए ?  क्या पता आज कोई एक पुस्तक छपे की हिटलर , मुसोलिनी महान  संत विचारक थे | जिसे आज खारिज कर दिया जाए |
क्योंकि हम आज का सच जानते हैं | पर आज से हज़ार साल बाद तर्क के रूप में पेश हो | कुछ
को जोश आये , कुछ होश खो दें | पर क्या आस्थाएं कभी तर्क से सिद्ध हो सकती हैं ?






* मिथक ही सही शाक्य
 समुदाय की अधिष्ठात्री देवी दुर्गा आज हर
समुदाय में पूजनीय क्यों हैं ? क्या है देवी दुर्गा में की शाक्य समुदाय की होते
हुए भी हर हिन्दू उनका पूजन करता है | ये एक स्त्री की शक्ति है |जो डरती नहीं है  अपने ऊपर हुए आक्रमण का स्वयं उत्तर देती है |
इसका देवासुर  संग्राम से कुछ लेना देना न
भी हो  तो भी दुर्गा हर स्त्री और हर कमजोर
में ये शक्ति जगाती हैं की अन्याय के विरुद्द हम अकेले ही काफी हैं |  

    
अभिव्यक्ति की
स्वतंत्रता में हर कोई कुछ भी लिख सकता है | उसका विरोध भी हो सकता है | “मेकिंग
ऑफ़ गॉड” भी जारी है,तर्कों का खेल भी जारी है | इन सब के बीच मुझे ओशो की
पंक्तियाँ याद आ गयीं |


                ओशो इस पर बहुत ख़ूबसूरती से
लिखते हैं की | जो धर्म  ग्रंथों को आधार
बना कर लड़ते हैं | उनमें से कोई धार्मिक नहीं है | क्योंकि धर्म ग्रंथों की भाषा
काव्य की भाषा हैं | काव्य की भाषा और तर्क की भाषा  में फर्क है | एक बहुत खूबसूरत उदहारण है | एक
पति कवि था और पत्नी वैज्ञानिक | शादी के बाद एक दिन पति ने बड़े ही प्रेम से पत्नी
से कह दिया, “तुम तो बिलकुल चंद्रमा की तरह हो” | बात पत्नी को चुभ गयी | उसने
झगड़ना शुरू कर दिया,“ तुम मुझे चंद्रमा कैसे कह सकते हो , वहां तो आदमी न सांस ले
सकता है व् प्यास बुझा सकता है अरे वो तो सीधा चल भी नहीं सकता | कवि  पति सकते में आ गए |ऐसा मैंने क्या कह दिया जो
इसे बुरा लग गया | और शादी टूट गयी | दोनों ही अपनी जगह सही थे और दोनों  गलत थे |


          चंद्रमा से तुलना काव्य की भाषा है |
इसका अर्थ है पत्नी को देख कर वही आनंद व् शांति प्राप्त होती है जो चंद्रमा को
देख कर होती है | तर्क ने चंद्रमा को चंद्रमा की तरह ही समझा | सभी धर्मों के धर्म
ग्रन्थ काव्य की भाषा में हैं | जो उन्हें अक्षरश : वैसा ही समझते हैं व् जो
उन्हें तर्क की भाषा में पढ़ते हैं | दोनों ही सत्य को नहीं  जानते | सत्य को नहीं जानना ही विवाद का कारण
हैं |

             क्योंकि आस्थाएं तर्क से तय नहीं
होती | 

आस्थाएं हमारा संबल हैं हमारा विश्वास हैं | जो सच्चा आस्थावान है | वो हर
आस्था की इज्ज़त करता है | अपनी आस्था को श्रेष्ठ साबित करने की चेष्टा नहीं करता |
क्योंकि उसमें अहंकार है , जीतने की इच्छा है | आस्थावान के लिए आस्था का अभिपाय
प्रेम या समर्पण होता है तर्क नहीं |


                 आज दुर्गा अष्टमी पर प्रार्थना
है हे माँ ये सिर् हर मंदिर मस्जिद , गुरुद्वारे  पर सामान रूप सामान रूप से झुके |

आप सभी को
दुर्गाष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं


 ©वंदना बाजपेयी 

यह भी पढ़ें …




  
                       

                 

2 COMMENTS

  1. कवि पति और वैज्ञानिक पत्नी के उदाहरण के द्वारा आपने बहुत खूबसूरती से समझाया कि भले ही सभी धर्मों का आधार अलग – अलग हो पर इनके प्रति आस्था ही हमारा संबल है | जो लोग सच में आस्थावान होते है वह किसी दूसरे की आस्था को गलत नहीं कह सकते |बहुत सुन्दर प्रस्तुति | धन्यवाद वंदना जी |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here