देश का भविष्य बनाने के लिए बच्चों की शिक्षा में आमूल चूल परिवर्तन करने की आवश्यकता है |

क्या ऐसे ही गढ़ा जायेगा देश का भविष्य?

एक परिवार, समाज और देश का विकास इस बात पर निर्भर करता है कि उनके बच्चों को किस प्रकार की शिक्षा मिल रही है। शिक्षा के अधिकार अधिनियम 2009 के द्वारा सरकार ने देश के 6 से 14 साल तक के प्रत्येक बच्चे को शिक्षा का मौलिक अधिकार तो प्रदान कर दिया किन्तु इस अधिकार के अन्तर्गत देष के गाँव-गाँव में रहने वाले प्रत्येक बच्चे को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा कैसे मिले? इस ओर कोई ठोस कदम नहीं उठाया। हम सभी जानते हैं कि भारत गाँवों का देश है। यहां की अधिकांश आबादी इन्हीं गाँवों में ही निवास करती है। इन्हीं गाँवों की स्कूली शिक्षा पर काम करने वाली गैर सरकारी संस्था ‘प्रथम एजुकेशन फाउंडेशन’ द्वारा हाल ही में जारी एनुअल स्टेटस आॅफ एजुकेशन रिपोर्ट (असर-2016) के अनुसार शिक्षा पर भारी खर्च के बाद भी ग्रामीण भारत के सरकारी स्कूलों (जहां कि निःशुल्क शिक्षा के साथ ही सरकार उन्हें दोपकर का खाना, किताबें, कापियां, छात्रवृत्ति और बैग तक मुफ्त दे रही है।) की स्थिति में अपेक्षित सुधार देखने को नहीं मिला है।


देश के 589 ग्रामीण जिलों के 15,630 सरकारी स्कूलों तथा 3 से 16 आयु वर्ग के 562,305 बच्चों पर किये गये सर्वेक्षण के आधार पर प्रकाशित एन्युअल स्टेट्टस आॅफ़ एजुकेशन रिपोर्ट 2016 बताती है कि देश के सरकारी स्कूलों के कक्षा 3 के 57.5 प्रतिशत बच्चे कक्षा 1 स्तर का पाठ नहीं पढ़ सके, 72.3 प्रतिशत बच्चे दो अंकों वाले घटाव के सवाल को हल नहीं कर सके और 68.00 प्रतिशत बच्चे अंग्रेजी के सामान्य शब्द नहीं पढ़ सके। इसी रिपोर्ट के अनुसार कक्षा 5 के 74.00 प्रतिशत बच्चे साधारण भाग के सवाल हल नहीं कर सके। रिपोर्ट बताती है कि कक्षा 8 के 56.7 प्रतिशत बच्चे 3 अंक का 1 अंक से भाग वाले सवाल को हल नहीं कर सके, 26.9 प्रतिशत बच्चे कक्षा 2 के स्तर का पाठ नहीं पढ़ सके और 54.8 प्रतिशत बच्चे अंग्रेजी के सामान्य वाक्य नहीं पढ़ सके। वास्तव में यह रिपोर्ट ग्रामीण भारत की प्राथमिक शिक्षा पर अत्यन्त ही चिंताजनक और झकझोरने वाली तस्वीर पेश करती है जबकि प्राथमिक शिक्षा ही किसी व्यक्ति के जीवन की वह नींव होती है, जिस पर उसके संपूर्ण जीवन का भविष्य तय होता है। यूनेस्को की एक ताजा रिपोर्ट के मुताबिक भी भारत में बच्चों को शिक्षा की उपलब्धता आसान हुई है। लेकिन गुणवत्ता का सवाल ज्यों का त्यों बना हुआ है और स्कूल जाने वाले बच्चे भी बुनियादी शिक्षा से वंचित हो रहे हैं। 


न्यू एजुकेशन पालिसी का ड्राफ्ट तैयार करने के लिए पूर्व में बनी कमेटी के अध्यक्ष व पूर्व कैबिनेट सेक्रेटरी टीएसआर सुब्रमण्यम ने भी अपने एक साक्षात्कार में यह स्वीकार किया है कि जब से देश में राइट टू एजुकेशन एक्ट 2009 लागू किया गया है तब से शिक्षा की गुणवत्ता में 25 प्रतिशत गिरावट आ गई है। इन सरकारी स्कूलों की गुणवत्ता पर चिन्ता व्यक्त करते हुए वर्ष 2015 में इलाहाबाद उच्च न्यायालय को उत्तर प्रदेश सरकार को सरकारी मद से वेतन लेने वाले सभी अधिकारियों एवं अधिकारियों को अपने बच्चों को सरकारी स्कूल में पढ़ाने का आदेश तक पारित करना पड़ा था। इस निर्णय के पीछे एक सीधी धारणा थी कि सत्तासीन वर्ग के बच्चे सरकारी स्कूलों मे पढ़ेंगे तो वहाँ के शैक्षिक स्तर में भी उन्नति होगी। इसके साथ ही सरकारी स्कूलों की शिक्षा के स्तर के संबंध में समय-समय पर मीडिया में दिखाई गई रिपोर्टे देश के सरकारी स्कूलों की बहुत ही भयानक तस्वीर प्रस्तुत करतीं हंै।


षिक्षा को मौलिक अधिकार बनाने के साथ ही सरकार को इन बातों पर ध्यान देना चाहिए कि उनके गाँव-गाँव में चलने वाले सरकारी स्कूलों एवं निजी स्कूलों की गुणवत्ता कैसे बढ़े? कैसे सरकारी स्कूलों में बच्चों एवं शिक्षकों की नियमित उपस्थिति सुनिश्चिित की जाये? कैसे इन सरकारी शिक्षकों की जवाबदेही तय की जायें? कैसे इन सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों को मिलने वाले ज्ञान के स्तर को बढ़ाया जाये? इन स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों को सम्मानजनक रूप से शिक्षा ग्रहण करने के लिए कुर्सी-मेज की व्यवस्था, बिजली, पानी, सफाई एवं शौचालय आदि की व्यवस्था कैसे की जाये? इन दिशाओं में ठोस कदम उठाने की बजाय सरकार ने शिक्षा के अधिकार अधिनियम 2009 को लागू करके देश के केवल 15 प्रतिशत निजी स्कूलों की कक्षा 1 से 8 तक की 25 प्रतिशत सीटों को चंद दुर्बल वर्ग और अलाभित समूह के बच्चों के लिए आरक्षित करके देश के बच्चों के बीच एक भेदभाव की दीवार और भी खड़ी कर दी है। 


यह हमारे देश के बच्चों का दुर्भाग्य ही है कि आज हम मंगल ग्रह तक तो पहुंच गये हैं किन्तु आज भी हमारे सरकारी स्कूलों में बच्चे भीषड़ जाड़े और गर्मी के मौसम में टाट पट्टियों पर बैठकर पढ़ने के लिए मजबूर हैं। इन सरकारी स्कूलों के कमरों में पंखे और बल्ब/ट्यूब लाइट तो लगे हैं किन्तु बिजली कनेक्शन के अभाव में यह मात्र शो पीस बनकर रह गये हैं। 28 नवम्बर, 2016 को प्राथमिक और मिडिल स्कूलों की खराब स्थिति पर सुप्रीमकोर्ट ने उत्तर प्रदेश सरकार को कड़ी फटकार लगाते हुए कहा कि ऐसे वातावरण में न तो शिक्षा दी जा सकती है और न ली जा सकती है। कोर्ट ने राज्य सरकार से कहा कि अगर वह स्कूल दुरुस्त नहीं कर सकती तो ये खराब शासन का संकेत है। कोर्ट ने इसके साथ ही राज्य सरकार को चार सप्ताह में इलाहाबाद के स्कूलों में मूलभूत सुविधाओं जैसे बिजली, पानी, शौचालय और सफाई आदि की कमी दूर करने का आदेश दिया है। ये आदेश न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली पीठ ने गैर सरकारी संगठन हरिजन महिला की ओर से दाखिल अवमानना याचिका पर सुनवाई के बाद जारी किये।


विश्व बैंक के भारत में क्षेत्रीय निदेशक ओनो रूल का मानना है कि ‘मेक इन इंडिया’ कार्यक्रम की सफलता के लिए भारत को प्राथमिक और माध्यमिक शिक्षा की गुणवत्ता पर विशेष जोर देना चाहिए। दुनिया का इतिहास गवाह है कि विकसित देशों के विकास में वहां की शिक्षा व्यवस्था ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। विकसित देशों में नीतिगत रूप से शिक्षा को शीर्ष प्राथमिकता में रखा गया है, पर हमारे देश में शिक्षा पर पर्याप्त ध्यान नहीं दिया गया। 28 जून 2016 को यूनिसेफ द्वारा 195 देशों में  जारी ‘‘स्टेट आॅफ द वर्ल्ड चिल्ड्रेन रिपोर्ट 2016’’ का थीम है ‘सभी बच्चों के लिए समान अवसर’। हमारा ऐसा मानना है कि कैशलेस स्कूल वाउचर सिस्टम के माध्यम से हम ‘अलाभित समूह एवं दुर्बल वर्ग’ के प्रत्येक बच्चों को समान व गुणात्मक शिक्षा प्रदान कर सकते हैं जो कि आरटीई ऐक्ट 2009 का उद्देश्य भी है जिससे इन बच्चों को समाज की मुख्य धारा में सम्मान के साथ सम्मिलित किया जा सकता है और जिसे सरकार की डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर (डीबीटी) महत्वकांक्षी एवं भ्रष्टाचार मुक्त योजना के अन्तर्गत लागू किया जा सकता है।


स्कूल वाउचर वह कैशलेस व्यवस्था है जिसके माध्यम से देश के कमजोर वर्ग के प्रत्येक बच्चे को एक निश्चित धनराशि का वाउचर उनकी फीस की प्रतिपूर्ति के लिए दिया जायेगा। इस वाउचर को बच्चे अपने फीस के रूप में अपने पसंद के सरकारी/निजी स्कूल में प्रतिमाह जमा कर दिया करेंगे। सरकारी/निजी स्कूल इन सभी वाउचरों को किसी भी राष्ट्रीयकृत बैंक, जिसे सरकार ने भुगतान हेतु अधिकृत किया होगा, में प्रस्तुत करके वाउचर के बराबर की धनराशि प्राप्त कर लेगा। इस व्यवस्था में किसी भी प्रकार की भ्रष्टाचार की कोई संभावना भी नहीं रहेगी साथ ही इस बाउचर धनराशि को प्राप्त करने के लिए सभी स्कूल अपने स्कूल द्वारा बच्चों को दी जाने वाली गुणवत्ता को भी बढ़ाने के लिए प्रयासरत् रहेंगे। लेकिन इसके लिए यह भी जरूरी है कि स्कूल वाउचर देते समय सरकार आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के प्रत्येक बच्चे के आधार कार्ड को उनके ‘स्कूल वाउचर’ से जरूर लिंक करवाये।

इस देश की नीतियों को तय करने वाले लोगों को समझना होगा कि विकास का मतलब केवल जीडीपी में उछाल नहीं है। देश का असली विकास तो तब होगा जब समाज के सभी वर्गों के प्रत्येक बच्चे को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्राप्त करने का समान अवसर मिले, वो चाहे गाँवों में रहता हो, कस्बों में या शहरों में। इसलिए अगर सरकार वास्तव में देश के प्रत्येक बच्चे को गुणात्मक शिक्षा मिलने के उनके संवैधानिक मौलिक अधिकार के प्रति संवेदनशील है तो सबसे पहले उसे प्रत्येक सरकारी स्कूल में शिक्षा का स्तर बढ़ाने के साथ ही प्रत्येक बच्चे की स्कूल में उपस्थिति अनिवार्य बनाने के लिए कैशलेस ‘स्कूल बाउचर सिस्टम’ को सारे देश में लागू करना होगा नहीं तो आने वाले समय में देश के गाँवों और कस्बों में सरकारी स्कूलों में षिक्षा प्राप्त करने वाली बाल एवं युवा पीढ़ी के साथ ही देष का भविष्य भी अंधकारमय हो सकता है।

- अजय कुमार श्रीवास्तव
एम.ए. (समाज शास्त्र एवं राजनीति विज्ञान)
 लखनऊ

लेखक


यह भी पढ़ें ...
किशोर बच्चों में अपराधिक मानसिकता जिम्मेदार कौन

आखिर क्यों 100 %के टेंशन में पिस रहे हैं बच्चे

बाल दिवस :समझनी होंगी बच्चों की समस्याएं 

माता - पिता के झगडे और बाल मन 

 आपको  लेख " क्या ऐसे ही गढ़ा जायेगा देश का भविष्य?" कैसा लगा  | अपनी राय अवश्य व्यक्त करें | हमारा फेसबुक पेज लाइक करें | अगर आपको "अटूट बंधन " की रचनाएँ पसंद आती हैं तो कृपया हमारा  फ्री इ मेल लैटर सबस्क्राइब कराये ताकि हम "अटूट बंधन"की लेटेस्ट  पोस्ट सीधे आपके इ मेल पर भेज सकें |   



keywords:  children issues,  child, children,child education, balanced child education

Share To:

atoot bandhan

Post A Comment:

0 comments so far,add yours