वाणी -वंदना , वाणी की देवी माता सरस्वती के चरणों में अपनी श्रद्धा का अर्पण है |



वाणी-वंदना

                                         यूँ तो पतझड़ के बाद वसंत के आगमन पर जब वसुंधरा फिर से नव- श्रृंगार करती है तो सारा वातावरण ही  एक अनूठी शोभा से युक्त हो जाता है | ऋतुओं में श्रेष्ठ वसंत ऋतु  का सबसे उत्तम दिन है वसंत पंचमी |  वसंत पंचमी हिन्दू कैलेण्डर के अनुसार माघ मास  के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि की मनाया जाता है |मान्यता है की वसंत पंचमी के दिन देवी सरस्वती का प्राकट्य  हुआ था , जिन्होंने जीव -जंतुओं को वाणी प्रदान की | माता सरस्वती को ज्ञान विज्ञान, संगीत , कला और बुद्धि की देवी भी माना जाता है |माता के जन्म के उत्सव में उनके प्रति श्रद्धा व् आभार प्रगट करने के लिए वसंत पंचमी का उत्सव मनाया जाता है | आइये हम सब उनकी स्तुति करें | 



माँ सरस्वती की वाणी-वंदना 




जय वीणा - पाणि पुस्तक धारिणि
जय श्वेत वसनि अक्षर कारणि
जय ब्रम्ह -सुता , कवि - कुल मंडन
जय - जय अज्ञान तिमिर भंजन

जय प्रखर प्रज्ज्वलित ज्ञान - ज्योत
साहित्य - सृजन प्रेरणा स्रोत
जय हे शारदे कमल आसनि
आध्यात्म - पुंज उर भ्रम नाशिनि

इस आत्म - दीप मन - चन्दन से
अर्चन वन्दन स्वीकार करो
इस प्राण - पियाले में रक्खे
कुछ भाव - पुष्प स्वीकार करो

उषा अवस्थी 


कवियत्री व् लेखिका


यह भी पढ़ें ...

स्वागत है ऋतू राज

वाणी की देवी वीणा पानी और उनके श्री विग्रह का मूक सन्देश

आत्मविश्वास बढ़ाना है तो पीला रंग अपनाइए

निराश लोगों के लिए आशा की किरण ले कर आता है वसंत

आपको  कविता  ".वाणी-वंदना ." कैसी लगी   | अपनी राय अवश्य व्यक्त करें | हमारा फेसबुक पेज लाइक करें | अगर आपको "अटूट बंधन " की रचनाएँ पसंद आती हैं तो कृपया हमारा  फ्री इ मेल लैटर सबस्क्राइब कराये ताकि हम "अटूट बंधन"की लेटेस्ट  पोस्ट सीधे आपके इ मेल पर भेज सकें 
Share To:

atoot bandhan

Post A Comment:

0 comments so far,add yours