वसंत के आगमन पर मन को प्रफूल्लित करता एक खूबसूरत वसंत गीत .

गीत वसंत


धरा ने है ओढ़ी वसन्ती ये चूनर
नव सुमनों का किनारा टँका है
नवल किसलयों का परिधान पहना
कि फागुन अभी आ रहा , आ रहा है 
धरा - - - -

ये पायल की रुनझुन सी भँवरों की गुनगुन
सघन आम्रकुन्जों में कोयल की पंचम
शीतल सुगन्धित मलय को लिए संग
ऋतुराज तो स्वागत को खड़ा है
धरा  - - - - 

ये पुष्पों के भारों से झुकती लताएँ
विपुल रंगों की इन्द्रधनुषी छटाएँ
ये सौन्दर्य - झरना धरा यौवना का
अनिमेष फागुन ठगा सा खड़ा है
धरा - - - - 




उषाअवस्थी
, गोमती नगर
लखनऊ ( उ0प्र0)



कवियत्री व् लेखिका


यह भी पढ़ें ...

बदनाम औरतें

रेप से जैनब मरी है

डायरी के पन्नों में छुपा तो लूँ

माँ मैं दौडूगा


आपको "गीत वसंत    "कैसे लगी अपनी राय से हमें अवगत कराइए | हमारा फेसबुक पेज लाइक करें | अगर आपको "अटूट बंधन " की रचनाएँ पसंद आती हैं तो कृपया हमारा  फ्री इ मेल लैटर सबस्क्राइब कराये ताकि हम "अटूट बंधन"की लेटेस्ट  पोस्ट सीधे आपके इ मेल पर भेज सकें |


Share To:

atoot bandhan

Post A Comment:

0 comments so far,add yours