जिंदगी भामें कई बार कुछ फैसले लेने पर मजबूर कर देती है पर कुछ फैसले हम खुद जानबूझ कर लेते हैं जो हमारी समस्याओं के समाधान के रूप में होते हैं


दूसरा फैसला

मीरा ने नंबर देखा ,माँ का फोन था ,एक बार होठों पर मुस्कराहट तैर गयी , ये नंबर उसके लिए कितना कितना खास रहा है , उसके जीवन का संबल रहा है , तभी एक झटका सा महसूस हुआ , कुछ तल्ख़ यादें  कानों में शोर मचाने लगीं |


                         बस जरा सा लिखना , पढ़ना ही सीख पायी थी वो कि माँ ने पढाई छुडवा कर काम पर लगा दिया था | तब से शादी तक सुबह से ले कर -देर शाम तक घर -घर सफाई -बर्तन करके न जाने कितना कमा -कमा  कर दिया था माँ को घर खर्च के लिए | कभी कोई शौक जाना ही नहीं था , भाई -पढ़ जाएँ , बहनों की अच्छे घर शादी हो जाए , माँ- बाबूजी ठीक से रहे यही उसकी मेहनत का सबसे बड़ा पारिश्रमिक था | माँ भी तो कितना लाड करती थीं | मेरे घर की लक्ष्मी कहते -कहते नहीं अघाती थीं |


                        समय गुज़रा उसके हाथ पीले हो गए वो पराये घर चली गयी और उसकी जगह उसकी छोटी बहन काम पर लग गयी | अब वो घर की लक्ष्मी थी | शादी के पांच सालों में  तीन बच्चे और पति की मार के सिवा कुछ भी तो नहीं मिला उसे | घरों का काम तो यहाँ भी करती थी पर माँ की तरह पति इज्ज़त नहीं देता था |महीने के पैसे भी , चाहे जितना छुपा के रखो , शराब में उड़ा देता | बच्चों की पढाई के लिए कुछ कहने पर जबाब में मार मिलती | फिर भी वो माँ से सब छुपाती रही , माँ को दुःख होगा , पर एक रात तो जानवरों की तरह इतना पीटा  कि उठने की ताकत भी न रही , नौबत इलाज़ की आ गयी थी | किसी तरह से भाई को फोंन  करके ले जाने को कहा |

यमुना पार झुग्गी बस्ती में माँ के पास आ कर उसने फैसला कर लिया अब वो यहीं कमरा किराए पर ले कर रहेगी , बच्चों को पढ़ाएगी |  अपना जीवन खराब हुआ तो क्या बच्चों का जीवन ख़राब नहीं होने देगी | वो बचपन से बहुत हिम्मती थी , उसे अपने फैसले पर गर्व था | जल्दी ही कालोनी में दो काम  मिल भी गए | पर दो कामों से तो किराया भी नहीं पूरा पड़ता | भाई तो उसे देखते ही मुंह फेर लेते कि कहीं कुछ मांग न ले | वो स्वाभिमाननी मन ही मन हंसती , जिन्हें बचपन में कमा -कमा  कर खिलाया है उनसे पैसे थोड़ी ही लेगी , नाहक ही डरते हैं | वो तो भावों में भर कर यहाँ रह रही है , अपनी जिंदगी के दर्द तो उसे खुद ही सहने हैं पर यहाँ कम से कम अपनापन तो है | कट ही जायेगी जिन्दगी की रात इन जुगनुओं की चमक से |


इन जुगनुओं की चमक बहुत जल्दी मद्धिम पड़ने लगी | पास रहते हुए भी भाई दूर -बहुत दूर होते जा रहे थे | बड़ी भाभी ने कन्या खिलाई थी इन नवरात्रों में , पूरी बस्ती में प्रसाद बांटा , पर उसके यहाँ चम्मच भर हलुआ भी नहीं भेजा | दिल दुखता था तो कोठियों  में जहाँ वो काम करती थी वहां बडबडा कर मन का गुबार निकाल देती | कोठी की मालकिने भी मन से सुनती | कभी-कभी सलाह भी देतीं , " अरे क्यों चिंता करती है , तुम लोग हो या हम लोग , जब घरवाला नहीं पूंछता तो किसके भाई पूंछते हैं ? तू तो बस अपने बच्चों पर ध्यान दे | " वो भी इस नसीहत को मान   चाय सुडकते हुए अपना दर्द सुड़क  जाती |   कामवाली भले ही थी पर वो जानती थी कि औरत अमीर हो या गरीब दोनों का दर्द एक ही होता है , डाल से टूटे पत्ते की तरह उसकी पीड़ा एक ही होती है | शुक्र है माँ का हाथ तो उसके सर पर है | वो हर मुसीबत से टकरा जायेगी |


तभी  सुखद संयोग से छोटी भाभी गर्भवती हो गयी | चक्कर और उल्टियों  वजह से उसे अपने काम छोड़ने पड़ें | उसने मीरा को काम सौंपते हुए कहा ," दीदी बच्चा होने के एक महीने बाद मेरे काम वापस कर देना"  | उसने हामी भर दी |


वह बड़ी ही लगन से काम करने लगी | सभी कोठियों की मालकिने  उसके काम से खुश थीं |  दिन बीतते -बीतते उसकी चिंता बढती जा रही थी | लाख कोशिश के बाद भी उसे नए  काम मिले नहीं थे , इधर  भाभी के नौ महीने पूरे होने वाले थे | उसने तय कर लिया था कि बच्चों को पूरा पड़े या न पड़े , भले ही पढाई छूट जाए पर भाभी जब काम मांगेंगी तो उनके काम उसे सौप देंगीं | आखिर काम के पीछे रिश्ते थोड़ी न बिगाड़ने हैं | सुख -दुःख में यही लोग तो काम आते हैं |


पर चिंता ने उसके शरीर को कमजोर कर दिया था | सुबह हलकी हरारत थी | देर से उठी और देर से ही काम पर  आई | कोठी का दरवाजा खुला हुआ था , मालकिन से किसी के बात करने की आवाजें आ रहीं थी | उसने गौर किया ये तो माँ की आवाज़ थी | माँ यहाँ क्या कर रहीं हैं , उसने बातों पर कान  लगा दिए |


माँ मालकिन से कह रहीं थीं , " छोटी बिटिया की भी शादी तय हो गयी है | आप तो जानती ही हैं , दौड़ - दौड़ कर कई घर कर लेती थी उसी से हमारा घर चल रहा था | अब बड़ी मुश्किल आएगी ,लड़का तो वैसे ही कुछ करता धर्ता नहीं है | बड़ा पहले से ही अलग अपने बीबी बच्चों के साथ रहता हैं हमें दो कौर को भी नहीं पूंछता | हमारी भी उम्र हो गयी है कोई सफाई  का काम  देता ही नहीं | ये बहु ही है जो साथ निभा रही है | समझदार है ,जानती है   शराबी आदमी के साथ अकेले कैसे बच्चे पालेगी | बच्चा हो जाए तो फिर काम पर आएगी | आप मीरा से कह देना बहु ही काम करेगी , उसी का तो काम था | फिर थोडा रुक कर बोली ," अब मीरा करेगी तो अपने बच्चों के लिए करेगी , बहु करेगी तो हमारा भी कुछ इंतजाम हो जाएगा बुढापे में | सब सोचना पड़ता है |


इससे आगे मीरा से नहीं सुना गया | आँखे डबडबा उठी | जल्दी से बाहर खुली हवा में आ गयी |वो तो खुद भाभी को काम देने वाली थी, माँ उसी से साफ़ -साफ़ बात तो कर के देखती  |  क्या स्वार्थ ही सब कुछ है , जी में आया माँ से आज उन पैसे का हिसाब माँगे जो उसने बचपन में कमा कर दिए थे | पर क्या फायदा ... अब माँ परायी जो हो गयीं थी |


दो  दिन तक वो काम पर नहीं गयी | भूखी -प्यासी बुखार में तपती बिस्तर पर पड़ी रही |  रिश्तों के मरने से भूख भी मर गयी थी | पर बच्चों को भूखा कैसे मरने देती | हिम्मत कर के  उठी ही थी माँ का फोन आ गया |


मीरा वर्तमान  में लौटी ... घंटी अब भी बज रही थी | उसके फोन उठाया | माँ की आवाज थी ,  " बहु को लड़की हुई है | क्या भाग्य है , दूसरी भी लड़की ही हो गयी | दहेज़ जुटाना पड़ेगा , माँ की आवाज़ में परेशानी साफ़ -साफ़ झलक रही थी |


मीरा ने बीच में बात काटते हुए कहा ," ये तो ख़ुशी की बात है माँ , बस आठ -नौ साल खिला दो , फिर तो वो कमा  कर खिलाएगी और दहेज़ का इंतजाम भी खुद ही तो कर लेगी , फिर दुःख काहे  का | हाँ माँ , एक बात और कहनी थी मैं अभी नहीं छठी पर आउंगी , नेग में भाभी के काम उन्हें सौंप दूंगी |" कहकर उसने फोन काट दिया |



                   उसने दूसरा फैसला भी ले लिया |  वो अपने बच्चों के साथ अपना सामान  बाँधने लगी | उसने तय कर लिया था , अब वो यहाँ नहीं रहेगी | जिस अपनेपन  की तलाश में वो यहाँ आई थी , जब वो ही नहीं तो यहाँ क्यों रुके | जब तक हाथ -पैर चलेंगे , कहीं भी काम  कर खा लेगी | उसे अपने दूसरे फैसले पर पहले से भी ज्यादा गर्व था |

वंदना बाजपेयी


फोटो क्रेडिट - शटर स्टॉक


यह भी पढ़ें ..
फेसबुक की दोस्ती

झूठ का सच

अपराध बोध

तबादले का सच


आपको    "दूसरा फैसला " कैसी लगी   | अपनी राय अवश्य व्यक्त करें | हमारा फेसबुक पेज लाइक करें | अगर आपको "अटूट बंधन " की रचनाएँ पसंद आती हैं तो कृपया हमारा  फ्री इ मेल लैटर सबस्क्राइब कराये ताकि हम "अटूट बंधन"की लेटेस्ट  पोस्ट सीधे आपके इ मेल पर भेज सकें |

filed under- free read,  stories,stories in Hindi, decision

Share To:

Atoot bandhan

Post A Comment:

3 comments so far,Add yours

  1. नारी भरे अभावों से भरी हो अगर उसके भीतर स्वाभिमान है तो उसे कोई अभाव छु नहीं सकता | एक औरत की हिम्मत को सलाम| प्यारी कहानी

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर कहानी.....
    जिन रिश्तों से विश्वास और प्रेम होता है उनका ये रूप देखकर बहुत तकलीफ होती है.....फिर उनके आसपास रहने का मन भी नही करता...

    ReplyDelete