छोटे मंदिरों में पूजा का काम कर रहे पंडित भयंकर गरीबी झेल रहे हैं , उनके परिवारों का पालन -पोषण मुश्किल से होता है | क्या उनके जीवन को सुगम रूप से चलाना , मनीर जाने वाली जनता का कर्तव्य नहीं है |


पंडित जी




पंडितों के बारे में बचपन से हास-और उपहास की बाते ही सुनती रही थी | वो भोजन भट्ट होते हैं | कभी तोंद देखी  है उनकी ,चार पैसे दिखा दो तो पोथी पत्रा ले कर दौड़ते हुए चले आयेंगे | कोई काम नहीं है बस मला फेरो , अरे उस ज़माने में पंडित जब खाना खाने  आते थे तो इतना खा लेते थे |  चारपाई पर लेट कर जाते थे |  जो भी हो पंडितों की छवि बहुत बिगड़ी हुई थी | परन्तु एक घटना ने इनके बारे में फिर से सोचने पर विवश कर दिया | 
 लघु कथा - पंडित जी 

हमारे इलाके में  एक मंदिर है , जहाँ के पंडित राधे श्याम जी  लगभग २० साल से पंडिताई कर कर रहे हैं | सुबह से शाम तक भगवान के भजन गाना , आरती , प्रशाद मंदिर की व्यवस्था में  एक कर्मठ योद्धा की तरह लगे रहते | उनसे मेरा ज्यादा परिचय तो नहीं था , पर  मेरा पंडित जी राम -राम कहना व्ए उनका प्रतिउत्तर में राम -राम कहना एक आत्मीय बंधन की शुरुआत थी | कभी -कभी वो खुद ही कुछ पूजा जाप आदि बता देते , या फिर क्या शास्त्र सम्मत तरीका है इसके बारे में भी बात करते | 

एक  बार मंदिर जाने पर मेरे पास आये और धीमे स्वर में बहुत संकोच के साथ  बोले ,  " मेरे बेटे की फीस में ३००० रूपये की कमी पड़ रही है , मंदिर में बहुत श्रद्धालु आते हैं सबसे परिचय है , फिर भी संकोच लगता है | हालांकि कुछ लोगों से कहा है पर ईश्वर की इच्छा उनके पास भी इस समय पैसे  नहीं हैं , अगर आप मदद कर सके तो ... मैं बाद में वापस कर दूँगा ,बच्चे का साल बर्बाद हो जाएगा , २० साल से मंदिर की सेवा में हूँ , यहीं ,मैं आपको जुबान दे रहा हूँ ... मैं आप के पैसे अवश्य लौटा दूंगा |


मैंने घर आ कर पैसे निकाल कर उनको दे दिए क्योंकि मुझे उनकी बात में सच्चाई दिखी | मेरे साथ उस समय मेरी पड़ोसन भी गयी थीं , उन्होंने मुझसे कहा ,” कौन लौटाता है , आप उन पैसों को भूल जाइए, मुझे भी उस समय यही लगा कि हो सकता है ऐसा हो , फिर भी मुझे ये तसल्ली थी कि वो पैसे बच्चे की शिक्षा में लगे हैं | इसलिए शाम को मैंने पति को पूरी घटना बताते हुए कहा ,” मैंने एक बच्चे की शिक्षा के लिए वो पैसे दिए हैं , अगर वो नहीं लौटाते हैं तो ठीक है वो उनके बच्चे की शिक्षा में लग गए , अगर लौटा देते हैं तो मैं किसी दूसरे बच्चे की शिक्षा में वो पैसे लगा दूँगी ...


इसके बाद कई महीने बीत गए ... मैंने उनसे कभी पैसों के बारे में बात नहीं की , वो स्वयं ही कहते रहे कि मैं लौटा दूँगा , लौटा दूँगा और मैं कोई बात नहीं कह कर आगे बढ़ जाती | करीब एक साल बाद वो मेरे पास आये और पैसे लौटते हुए बोले ,” आज ईश्वर की कृपा से मैं मुक्त हुआ , बहुत विपरीत परिस्थितियाँ आयीं, समय पर नहीं लौटा सका , पर अपना संकल्प सदा याद रहा , कागज़ में लिख कर रख लिया था | वो पैसे दे कर चले गए | मैंने वो पैसे किसी और बच्चे की शिक्षा में लगाने के लिए रख लिए | उनके अपने वचन के प्रति संकल्पित होने से  से मेरा मन उनके प्रति श्रद्धा से भर गया | 

-----------------------------------------------


   
यह भी पढ़ें ...








आपको "पंडित जी "कैसे लगा  अपनी राय से हमें अवगत कराइए | हमारा फेसबुक पेज लाइक करें | अगर आपको "अटूट बंधन " की रचनाएँ पसंद आती हैं तो कृपया हमारा  फ्री इ मेल लैटर सबस्क्राइब कराये ताकि हम "अटूट बंधन"की लेटेस्ट  पोस्ट सीधे आपके इ मेल पर भेज सकें |


filed under-pandit, hindu priest, 
Share To:

atoot bandhan

Post A Comment:

1 comments so far,Add yours

  1. हिन्दू समाज की व्यबस्था जो शायद किसी समय होती हो पर अब तो नहीं ही है ... जिसको जैसे माल मिलता है लूटते हैं ... धर्म की रक्षा तक के लिए नहीं खड़े होते ये पण्डे जिसके कारण इनकी पारिवारिक व्यवस्था चलती है ...

    ReplyDelete