डॉक्टर साहब एक ऐसे डॉक्टर की कहानी है जो एक कर्तव्यनिष्ठ डॉक्टर होने के बावजूद एक गलत धारणा का शिकार हुआ |

डॉक्टर साहब


                                 रमेश जी का बेटा नितिन बहुत तेज बाइक  चलाता था | रमेश जी अक्सर मना करते , " बेटा इतनी तेज मत चलाया करो कहीं एक्सीडेंट न हो जाए | मेरी  तो जान ही तुममें बसी रहती है | बेटा हँस  कर उनकी बात टाल देता , " अरे पिताजी , आप खामखाँ में डरते हैं, अब कोई साइकिल की तरह तो बाइक चलाएगा नहीं | फिर मैं तो सावधानी से  चलाता हूँ | तेजी तो हमारी उम्र में होगी ही | अभी १९ का ही तो हूँ आप की तरह कैसे सोच सकता हूँ | रमेश जी उसकी इस बात पर निरुत्तर हो जाते |


एक दिन वही  हुआ जिसका डर था | रमेश जी ऑफिस में काम कर रहे थे कि उनके पास वो दुखद फोन आया | फोन हॉस्पिटल से था | बेटे का एक्सीडेंट हो गया था , और वो हॉस्पिटल में  भर्ती था | तुरंत ही ऑपरेशन  होना जरूरी था | रमेश जी आनन् फानन में हॉस्पिटल भागे | बेटा ऑपरेशन थियेटर  में था | अभी ऑपरेशन शुरू नहीं हुआ था क्योंकि हेड डॉक्टर अभी नहीं आये थे | ये सुन कर रमेश जी का दिमाग घूम गया | वो डॉक्टर को गालियाँ बकने लगे | सब डॉक्टर एक जैसे हैं , हराम की कमाई खाते हैं | मरीज का धयान नहीं , जिए या मरे , आप साहब बैठे होंगे क्लब में |   अगर अपना बेटा मर रहा होता तो क्या इतनी लापरवाही दिखाते | इंसानियत तो है ही नहीं |

यह भी गुज़र जाएगा

वो बडबडा ही रहा था की हेड डॉक्टर आ गए और तेजी से ऑपरेशन थियेटर में घुस गए | ऑपरेशन चार घंटे चला | नर्स ने आकर खबर दी की ऑपरेशन सफल हुआ आपका बेटा खतरे से बाहर है | रमेश जी जो इतनी देर से भगवान् का नाम जप रहे थे , ने चैन की सांस ली | फिर मन ही मन सोचा कि उस डॉक्टर का धन्यवाद करना चाहिए जिसने उसके बेटे की जान बचायी है | वो बेकार ही उन्हें कोस रहा था |


तभी हेड डॉक्टर  ऑपरेशन थियेटर से बाहर निकले | इससे पहले की रमेश उन्हें धन्यवाद दे पाता , तीर की तरह बाहर चले गए | रमेश को उनका ये व्यवहार बहुत अहंकारी लगा | वो  नर्स के पास जा कर कहने लगे , " बड़े घमंडी हैं ये डॉक्टर साहब | माना की अपना काम सही कर दिया पर क्या दो मिनट  मरीज के परिवार वालों को सांत्वना नहीं दे सकते थे? अगर अपना बेटा होता तो क्या ऐसे ही करते ?


कामलो सो लाडलो


नर्स रमेश जी की तरफ आश्चर्य से देखते हुए बोली , " आपको नहीं पता ? आपके बेटे का जिस के साथ एक्सीडेंट हुआ है वो डॉक्टर साहब का ही लड़का है | आप का बेटा तो तेज गाडी चलाने के बाद भी बच गया पर डॉक्टर साहब का लड़का जो उसकी गाडीकी चपेट में आ गया , नहीं बच सका | वो अब उसी का क्रिया कर्म करने जा रहे हैं |


रमेश जी की आँखे छलक गयी और मुंह से बस इतना निकला , " ओह , डॉक्टर साहब "|

------------------------------------


मित्रों हम अक्सर दूसरों के खिलाफ धरणा  बना लेते हैं | पर  ये जरूरी नहीं कि वोलोग वैसे ही हों | कभी -कभी मन अपने ही शब्दों के कारण आत्मग्लानी से भर उठता है |

अटूट बंधन परिवार


यह भी पढ़ें ...

पीली frock

तूफान से पहले

राधा की समझदारी

फर्क

 आपको  कहानी  "डॉक्टर साहब  "  | अपनी राय अवश्य व्यक्त करें | हमारा फेसबुक पेज लाइक करें | अगर आपको "अटूट बंधन " की रचनाएँ पसंद आती हैं तो कृपया हमारा  फ्री इ मेल लैटर सबस्क्राइब कराये ताकि हम "अटूट बंधन"की लेटेस्ट  पोस्ट सीधे आपके इ मेल पर भेज सकें |


filed under- short stories, Hindi stories, short stories in Hindi, doctor, 
Share To:

atoot bandhan

Post A Comment:

0 comments so far,add yours