अनुभूतियों के दंश- लघुकथा संग्रह (इ बुक )की समीक्षा


अनुभूतियों के दंश- लघुकथा संग्रह (इ बुक )

लघुकथा वो विधा है जिसमें थोड़े शब्दों में पूरी कथा कहनी होती है | आज के समय में जब समयाभाव के कारण लम्बी कहानी पढने से आम  पाठक कतराता है वहीँ लघुकथा अपने लघुआकार के कारण आम व् खास सभी पाठकों के बीच लोकप्रिय है | उम्मीद है आने वाले समय में ये और लोकप्रिय होगी | लोगों को लगता है कि लघुकथा लिखना आसान है पर एक अच्छी लघुकथा लिखना इतना आसान भी नहीं है | यहाँ लेखक को बहुत सूक्ष्म  दृष्टि की आवश्यकता होती है | उसमें उसे किसी छोटी सी घटना के अंदर छिपी बात समझना या उसकी सूक्ष्मतम विवेचना करनी होती है | और अपने कथ्य में उसे इस तरह से उभारना होता है कि एक छोटी सी बात जिसे हम आम तौर पर नज़रअंदाज कर देते हैं , कई गुना बड़ी लगने लगे | जिस तरह से नोट्स में हम हाईलाइटर का इस्तेमाल करते हैं ताकि छोटी सी बात को पकड़ सकें वहीँ काम साहित्य में लघुकथा करती है | विसंगतियां इसके मूल में होती हैं | लघुकथा में शब्दों का चयन बहुत जरूरी है | जहाँ कुछ शब्दों की कमी अर्थ स्पष्ट होने में बाधा उत्पन्न करती है वहीँ अधिकता सारे रोमच को खत्म कर देती है | यहाँ जरूरी  है कि लघुकथा का अंत पाठक को चौकाने वाला हो |

 अनुभूतियों के दंश- लघुकथा संग्रह (इ बुक )

आज में ऐसे ही लघुकथा संग्रह “अनुभूतियों के दंश “ की बात कर रही हूँ | डॉ . भारती वर्मा ‘बौड़ाई ‘ का यह संग्रह ई –बुक के रूप में है | कहने की जरूरत नहीं कि आने वाला जमाना ई बुक का होगा | इस दिशा में भारती जी का ये अच्छा कदम है , क्योंकि छोटे होते घरों , पर्यावरण के खतरे , बढ़ते कागज़ के मूल्य व् हर समय उपलब्द्धता के चलते एक बड़ा पाठक वर्ग ऑन लाइन पढने में ज्यादा रूचि ले रहा है |


अंतरा शब्द शक्ति .कॉम  पर प्रकाशित इस संग्रह में १८ पृष्ठ हैं व् १२ लघुकथाएं हैं | सभी लघुकथाएं प्रभावशाली हैं | कहीं वो समाज की किसी विसंगति पर कटाक्ष करती हैं ....संतुष्टि , समझ , समाधान , मुखौटा आदि तो कहीं वो संस्कारों की जड़ों से गहरे जुड़े रहने की हिमायत करती हैं ...टूटता मौन ,संस्कार , कहीं वो समस्या का समाधान करती हैं ....विजय और जूनून ,पहचान ,वहीँ कुछ भावुक सी कर देने वाली लघुकथाएं भी हैं जैसे ... मायका प्रेरणा और पीली पीली फ्रॉक | पीली फ्रॉक को आप अटूट बंधन.कॉम में पढ़ चुके हैं |



यूँ  तो सभी लघुकथाएं बहुत अच्छी हैं पर एक महिला होने के नाते लघु कथा  मायका और जूनून ने मेरा विशेष रूप से ध्यान खींचा |जहाँ मायका बहुत ही भावनात्मक तरीके से  बताती है कि जिस प्रकार एक लड़की का मायका उसके माता –पिता का घर होता है उसी प्रकार लड़की के वृद्ध माता –पिता का मायका लड़की का घर हो सकता है | एक समय था जब लड़की के माता –पिता अपनी बेटी से कुछ लेना तो दूर उसके घर का पानी पीना भी नहीं  पीते थे | अपनी ही बेटी को दान में दी गयी वस्तु समझने का ये समाज का कितना कठोर नियम था | ये छोटी सी कहानी उस रूढी पर भी प्रहार करती है जो विवाह होते ही लड़की को पराया घोषित कर देती है |


वहीँ ‘विजय’ कहानी एक महिला के अपने भय पर विजय है | एक ओर जहाँ हम लड़कियों को बेह तर शिक्षा दे कर आत्मनिर्भर बनाने पर जोर दे रहे हैं वहीँ हम बहुओं को अभी भी घरों में कैद कर केवल परिवार तक सीमित रखना चाहते हैं | उसे कहीं भी अकेले जाने की इजाज़त नहीं होती | हर जगह पति व् बच्चे उसके संरक्षक के तौर पर जाते हैं | इससे एक तरफ जहाँ स्त्री घुटन की शिकार होती है वहीँ दूसरी तरफ एक लम्बे समय तक घर तक सीमित रहने के कारण वो भय की शिकार हो जाती है उसे नहीं लगता कि वो अकेले जा कर कुछ काम भी कर सकती है | ज्यादातर महिलाओं ने कभी न कभी ऐसे भय को झेला है| ये कहानी उस भय पर विजय की कहानी है |एक स्त्री को अपने अस्तित्व को बचाए रखने के लिए इस भय पर विजय पानी ही होगी |  


भारती जी एक समर्थ लेखिका हैं | आप सभी ने atootbandhann.com पर उनकी कई रचनाएँ पढ़ी हैं | उनकी अनेकों रचनाओं को पाठकों ने बहुत सराहा है | उनके लेख त्योहारों का बदलता स्वरुप को अब तक 4408 पाठक पढ़ चुके हैं, और ये संख्या निरंतर बढ़ रही है | आज साहित्य जगत में भारती जी अपनी एक पहचान बना चुकी हैं व् कई पुरुस्कारों से नवाजी जा चुकी हैं  | निश्चित रूप से आप को उनका ये लघुकथा संग्रह पसंद आएगा | लिंक दे रही हूँ , जहाँ पर आप इसे पढ़ सकते हैं |


अपने लघुकथा संग्रह व् लेखकीय भविष्य के लिए भारती जी को हार्दिक शुभकामनाएं |  


वंदना बाजपेयी

यह भी पढ़ें ...

हसीनाबाद -कथा गोलमी की , जो सपने देखती नहीं बुनती है 

कटघरे : हम सब हैं अपने कटघरों में कैद
अंतर -अभिव्यक्ति का या भावनाओं का

मुखरित संवेदनाएं -संस्कारों को थाम कर अपने हिस्से का आकाश मांगती एक स्त्री के स्वर


आपको  समीक्षा   "अनुभूतियों के दंश- लघुकथा संग्रह (इ बुक )"कैसी लगी ? अपनी राय अवश्य व्यक्त करें | हमारा फेसबुक पेज लाइक करें | अगर आपको "अटूट बंधन " की रचनाएँ पसंद आती हैं तो कृपया हमारा  फ्री इ मेल लैटर सबस्क्राइब कराये ताकि हम "अटूट बंधन"की लेटेस्ट  पोस्ट सीधे आपके इ मेल पर भेज सकें | 
                

filed under- E-Book, book review, sameeksha, literature
Share To:

atoot bandhan

Post A Comment:

1 comments so far,Add yours

  1. बहुत सुन्दर समीक्षा... वंदना जी आपको तथा भारती जी को हार्दिक बधाई एवं अनंत शुभकामनाएँ 💐💐

    ReplyDelete