Home 2015 September

Monthly Archives: September 2015

नारी मन पर वंदना बाजपेयी की लघुकथाएं

                          नारी मन मनोभावों का अथाह सागर है |इनमें से कुछ को...

नाम में क्या रखा है : व्यंग -बीनू भटनागर

नाम की बड़ी महिमा है, नाम पहचान है, ज़िन्दगी भर साथ रहता है। लोग शर्त तक लगा लेते हैं कि ‘’भई, ऐसा न हुआ या...

डिम्पल गौड़ ‘अनन्या ‘ की लघुकथाएं

समझौता "आज फिर वही साड़ी ! कितनी बार कहा है तुम्हें..इस साड़ी को मत पहना करो ! तुम्हें समझ नहीं आता क्या !" "यही तो फर्क है एक...

क्षमा पर्व पर विशेष : “उत्तम क्षमा, सबको क्षमा, सबसे क्षमा”

क्या आपने कभी सोचा है की हँसते -बोलते ,खाते -पीते भी हमें महसूस होता है टनो बोझ अपने सर पर। एक विचित्र सी पीड़ा...

बाजारवाद : लेख – शिखा सिंह

बाजरबाद की घुसपैठ  ने लोगों को अपना कैदी बना लिया है,जिसमें लोग खुद को भी अनदेखा करने लगे है। आज के दौर ने बाजारबाद को...

सीमा सिंह की लघुकथाएं

नशा कभी बाएं कभी दायें डोलती सी तेज गति से आती  अनियंत्रित गाड़ी मोड पर पलट गई. भीड़ जमा हो गई आसपास किसी तरह से गाड़ी में...

जिंदगी का सबक

जो सबक हमें जिंदगी सिखाती है वो किताबों में नहीं मिलता क्योंकि जिंदगी के सबकों के आधार पर किताबें लिखी जाती हैं न कि किताबों के आधार पर...

MOST POPULAR

HOT NEWS