पढ़ो,
बढ़ो,
जीवन के
दुर्गम पर्वत चढ़ो।
मिलें
बाधाएँ
रौंद उन्हें
नव पथ गढ़ो।

दिखे
कहीं
अन्याय, सहो न
आगे बढ़ लड़ो।
पथ
अपना
चुन, उस पर
अकेले ही बढ़ो।
अँधियारा,
डरना कैसा?
अपना
दीपक आप बनो।
रंग
भले ही
हों कितने भी
बस भोलापन चुनो।
------------------------
कॉपीराइट@डॉ.भारती वर्मा बौड़ाई।


Share To:

Atoot bandhan

Post A Comment:

1 comments so far,Add yours

  1. outstanding and remarkable feelings and expression style .

    ReplyDelete