पर्त् दर पर्त्


पर्त दर पर्त छिपा रखे थे आँसू कितने
ए खुदा ! दर्द किसी का प्याज के मानिंद न हो
वंदना बाजपेयी
Share To:

Atoot bandhan

Post A Comment:

1 comments so far,Add yours