हर बात का मतलब हम अपने परिपेक्ष्य में लगते हैं पर कई बार ये मतलब उल्टा पद जाता है |


लघु कथा -मतलब



सुनो , "ये करवाचौथ के क्या ढकोसले पाल रखे हैं तुमने ?"

कहीं व्रत रखने से भी कभी किसी की उम्र बढ़ी है ?
रहोगी तुम गंवार ही , आज जमाना कहाँ से कहाँ पहुँच गया है , और तुम वही पुराने ज़माने की औरतों की तरह ....इतनी हिम्मत तो होनी चाहिए ना कि परम्परा तोड़ सको |"

हर साल तुम्हें समझाता हूँ पर तुम्हारे कानों पर जूं  भी नहीं रेंगती |

हर साल करवाचौथ पर गुस्सा करवा -करवा कर तुम मेरी उम्र घटवाती हो , देखना एक दिन मैं  यूँही चीखते -चिल्लाते  चला जाऊँगा भगवान् के घर ....फिर रह जायेंगे तुम्हारे सारे ताम -झाम , नहीं मानेगा करवाचौथ इस घर में |

हर बार की तरह दीनानाथ जी के कटु वचनों से मंजुला घायल हो गयी | आँसू पोछते हुए बोली , " भगवान् के लिए आज के दिन शुभ -शुभ बोलो ,मेरी सारी  पूजा लग जाए,तुम्हारी उम्र  चाँद सितारों जितनी हो | माना की तुम्हें परम्परा में विश्वास नहीं है पर मेरी इसमें आस्था है .... तुम कुछ भी कहो इस घर में करवाचौथ हमेशा ऐसे ही पूरे विधि विधान से मनेगा |"

ओह इस मूर्ख औरत को समझाना व्यर्थ है , जब मैं नहीं रहूँगा तो खुद ही अक्ल आ जायेगी | तब नहीं मनेगा इस घर में करवाचौथ |

-------------------

रात को चाँद अपने शबाब पर था | हर छत पर ब्याह्तायें सज धज कर अपने पति के साथ चलनी से चाँद का दीदार कर रहीं थीं |

दीनानाथ जी ने पीछे मुड़ कर अपनी छत पर नज़र डाली | ना वहां चलनी थी , ना दीपक , ना चाँद के इंतज़ार को उत्सुक आँखे |


चार साल हो गए मंजुला को तारों के पास गए हुए , तब से इस घर में करवाचौथ नहीं मना | हमेशा करवाचौथ को अपनी उम्र से जोड़कर देखने वाले दीनानाथ जी ने आंसूं पोछते हुए कहा ,"वापस आ जाओ मंजुला अब कभी  नहीं कहूँगा करवाचौथ ना मनाने को | नादान था मैं हर करवाचौथ को तुम्हारा दिल दुखाता रहा ...नहीं पता था कि इस घर में करवाचौथ ना मनने का मतलब ये भी हो सकता है |

__________________________________________________________________________________

नीलम गुप्ता
यह भी पढ़ें ...

                                                 वारिस


                                             

     आपको  कहानी  "इंटरव्यू " कैसी लगी   | अपनी राय अवश्य व्यक्त करें | हमारा फेसबुक पेज लाइक करें | अगर आपको "अटूट बंधन " की रचनाएँ पसंद आती हैं तो कृपया हमारा  फ्री इ मेल लैटर सबस्क्राइब कराये ताकि हम "अटूट बंधन"की लेटेस्ट  पोस्ट सीधे आपके इ मेल पर भेज सकें |

filed under-  karvachauth   , story, short story, free read  ,                                     
Share To:

Atoot bandhan

Post A Comment:

3 comments so far,Add yours

  1. बेहद हृदयस्पर्शी

    ReplyDelete
  2. दिल को छूने वाली...और बेहद ही मर्मस्पर्शी कहानी।

    ReplyDelete
  3. बहुत बहुत सुंदर जी

    ReplyDelete