अटूट बंधन

5
atootbandhann.com के बारे में
अटूट बंधन ब्लॉग की नींव “सर्वजन हिताय , सर्वजन सुखाय” की भावना से
प्रेरित हो कर रखी गयी है | इसके मुख्य उद्देश्य निम्न हैं …
हमारे जीवन में रोटी कपडा और मकान के बाद जो चीज
सबसे महत्वपूर्ण होती है ,वो है हमारे रिश्ते | जहाँ रोटी कपडा और मकान भैतिक
आवश्कताओं के लिए जरूरी हैं ,वहीं रिश्ते भावनात्मक आवश्यकताओं के लिए जरूरी हैं |
आज के समय में जब रिश्ते टूट और बिखर रहे हैं तब बहुत जरूरी है उन्हें संभालना ,
सहेजना ताकि हम भावनात्मक रूप से संतुष्ट रह सके | भावनात्मक संतुष्टि के बिना
सारी खुशिया बेकार लगती है | हम अटूट बंधन ब्लॉग पर ऐसे जानकारीयुक्त लेख ले कर
आयेगे जो आपके रिश्तों को सँभालने में आपकी सहायता करेंगे व्  आपको गलत रिश्तों से निकलने की समझ भी देंगें |
जीवन है तो समस्याएं हैं | जब समस्याएं आती हैं तो हमारा
दिमाग काम नहीं करता
| उस समय लगता है कोई रास्ता दिखा दे |
हमारे ब्लॉग में अगला कदमवही हाथ है जो उस समय आपको सहारा देगा , रास्ता
दिखाएगा जब आप समस्या से जूझ रहे हो और उसका हल खोज रहे हों
| इसमें रिश्तों , कैरियर , स्वाथ्य
, प्रियजन की मृत्यु , अतीत में जीने
आदि बहुत सारी समस्याओं को उठाया है
| ये योजना मेरे दिल के
बहुत करीब है
| आशा है सब को इससे लाभ होगा |
कौन है जो सफल नहीं होना चाहता | सफलता के लिए सभी प्रयास
भी करते हैं | सफलता आशा और उत्साह देती है वहीँ असफलता मन को तोड़ देती है |
हालांकि कोई भी असफलता अंतिम नहीं होती | पर निराशा के आलम में जरूरी होता है कोई
ऐसा व्यक्ति जो उस निराशा से निकल दे और जीवन में फिर से जिजीविषा भर दे | “अटूट
बंधन “ ब्लॉग का प्रयास है की वो सकारात्मक विचरों का प्रचार प्रसार  करेगा जिससे लोग निराशा से बाहर निकल कर लौकिक
व् परलौकिक सफलता प्राप्त कर सकें | साथ ही स्वस्थ , संतुष्ट व् उर्जा से भरे आपके
व्यक्तित्व विकास में भी सहायक होगा |
अटूट बंधन ब्लॉग प्रतिभाशाली लोगों को मंच देने की
कोशिश है
|हमारा
प्रयास रहेगा की आप की रचनाओं को ज्यादा से ज्यादा पाठक पढ़ सके | जो लोग भी अटूट
बंधन में अपनी रचनाएँ भेजना चाहते हैं वो editor.atootbandhan@gmail.com
पर भेजें | रचना पसंद आने पर प्रकाशित की जायेगी |
        उम्मीद है
अच्छी भावना से शुरू की गई ये कोशिश कामयाब होगी और पाठकों के साथ मेरा
अटूट बंधन”                                               
        बना रहेगा |  
                                         वंदना
बाजपेयी

                                       फाउंडर
ऑफ़ अटूट बंधन .कॉम 

5 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here