पर्त दर पर्त

1
64
पर्त् दर पर्त्

पर्त दर पर्त छिपा रखे थे आँसू कितने
ए खुदा ! दर्द किसी का प्याज के मानिंद न हो
वंदना बाजपेयी

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here