बदलाव

1
138

दुनिया एक खूबसूरत जगह होती अगर हम
किसी का आकलन करने के स्थान पर उसकी परिस्थिति को समझने की कोशिश करते
गुस्से में बेकाबू होने के स्थान पर
बोलने से पहले थोडा रुकते
किसी की गलती पर बुरे से बुरा सोंचने के स्थान पर
उसे संदेह का लाभ देते 

1 COMMENT

  1. आपने ठीक फरमाए है, गुस्से में व्यक्ति अपने को उस व्यक्ति के स्थान में अपने को रख के देखे तो जो बात गुस्सा दिलाती है वही आपके मन में सहृदयता जागृत करती है |.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here