गणेश चतुर्थी पर विशेष 
प्रथम पूज्य गणेश जी की पूजा के बाद ही किसी दूसरे देवी देवता की पूजा होती है | अत : हर पूजा में गणेश जी की पूजा अनिवार्य है | पूजा के साथ गणेश जी की कहानियाँ  भी सुनाई जाती हैं | आज हम आके लिए वो चार कहानियाँ लाये हैं जो पूजा के समय सुनाई जाती हैं | 


कविता बिंदल 
जब राजा का महल टेढ़ा हो गया 

                             एक बुढिया थी | वह गणेश जी की बहुत पूजा किया करती थी | उसने घर में एक मंदिर में गणेश जी की छोटी सी प्रतिमा स्थापित कर रखी थी | बुढिया की बहू उसकी पूजा पथ से बहुत चिढती थी | एक दिन उसने मौका देख कर गणेश जी किप्रतिमा  कुंएं में फेंक दी | जब बुढिया वापस मंदिर में गयी तो प्रतिमा न पाकर जोर - जोर से रोने लगी | वह अर्द्ध विक्षिप्त सी शहर की ओर निकल पड़ी और हर आते - जाते व्यक्ति से कहने लगी ," कोई मेरे गणेश जी की प्रतिमा बना दो | " पर कौन बना पाता ? तभी उसे एक कारीगर मिला जो राजा का महल तैयार कर रहा था | बुढिया ने उससे भी वही बात कही | कारीगर ने उसे डांटते हुए कहा ," अरे जितनी देर में मैं तेरे गणेश बनाऊंगा कोई दूसरा काम न कर लूँ जो मुझे पैसा मिले | बुढिया रोते हुए आगे बढ़ गयी | तभी कारीगर के पास खबर आई की राजा का महल तिरछा हो गया है व् राजा बहुत गुस्से में है | कारीगर को माजरा समझते देर न लगी | वो तुरंत बुढिया के पास गया और बोला ," अम्मा ला मैं न तेरे गणेश बनाऊंगा बल्कि उनका मंदिर भी बनाऊंगा | कारीगर ने मंदिर बनाना शुरू किया | जैसे ही मंदिर में मूर्ति की स्थापना हुई राजा का महल सीधा हो गया | 

जैसे गणेश भगवान् ने राजा व् बुढिया पर दया की सब पर अपनी कृपा बनाए रखें | 
बोलो गणेश जी की जय 
--------------------------------------

बुढिया की खीर 

                     एक बार गणेश जी एक बालक का रूप धर कर थोड़े से चावल व् चुल्लू भर दूध ले कर गाँव में घूमने निकले | वह हर किसी से प्रार्थना करते की मेरी खीर बना दो | सब उन पर हँसते ," आते इत्ते से चावल व् दूध से क्या खीर बनेगी | तभी वो एक गरीब बुढिया के पास गए व् उससे भी खीर बनाने का आग्रह किया | बुढिया बच्चे का मन देख कर राजी हो गयी | उसने घर पहुँच कर दूध को कटोरी में डाला तो कटोरी भर गयी , फिर उसे भगौने में पलता तो वो भी भर गया | फिर बुढिया ने उसे घर के सबसे बड़े बर्तन में दूध पलता तो वो भी भर गया |बुढिया ये देख कर सकते में आ गयी वो गाँव की सबसे बड़ी देगची ले कर आई उसमें दूध पलटने पर वो भी भर गयी | बुढिया ने उसे चूल्हे पर चढ़ा कर खीर पकानी शुरू की | खीर की खुशबूं पूरे घर में फैलने लगी | बुढिया ने अपनी बहू से कहा ,मैं उस बच्चे को बुलाने जा रही हूँ तू खीर का ध्यान रखना | बुढिया के जाते ही बहू खुद को रोक न पायी उसने कटोरी में खीर निकाली व् एक चम्मच गणेश जी के नाम से दरवाजे के पीछे डाल कर खा ली | बुढिया ने उस बच्चे को ढूंढ कर उससे खीर खाने को कहा तो बच्चा बोला ," अम्मा तुम्हारी बहू ने तो पहले ही मुझे भोग लगा दिया है | मेरा पेट भर गया | अब यह खीर गाँव भर में बाँट दो | बुढिया ने बच्चे की बात मान कर गाँव भर में खीर बाँट दी | सबने पेट भर के खायी | 

                                       जिस बुढिया के घर में खाने को नहीं था गणेश जी की कृपा से उसका घर धन धान्य से भर गया | ऐसे ही गणेश जी हर भक्त पर दया  करें | 
                                बोलो गणेश जी की जय 
--------------------------------------------------

जब गणेश जी को अपना वचन पूरा करना पड़ा 
                               एक बुढिया थी | वह अंधी थी व् अपने बेटे बहू के पास रहती थी | वह रात - दिन गणेश जीकी पूजा किया करती थी | एक दिन गणेश जी ने उससे पर प्रसन्न हो कर कहा , माई मैं तेरी पूजा से खुश हूँ तो जो चाहे मांग ले | 
अब बुढिया ने कहा ," प्रभु मेरे पास तो सब कुछ है मैं क्या मांगूं | 
गणेश जी बोले ," ठीक है तू अपने बेटे बहू से पूँछ कर मांग ले |
बुढिया  ने बेटे बहू से पूंछा 
बेटे ने कहा , " अम्मा करोंड़ों रूपये मांग ले 
बहू ने कहा ," अम्मा पोता मांग ले 
बुढिया असमंजस में पड़ गयी उसने पड़ोसी से पूंछा तो उन्होंने कहा , " रुपया पैसा तेरे किस काम का अम्मा तू आँखों की रोशिनी मांग ले | 
रात भर बुढिया सोंचती रही | सुबह गणेश भगवान् फिर प्रगट हुए | बुढिया पहले से तैयार थी | वो बोली प्रभु आप मुझे ये वरदान दें की मैं करोंड़ों रूपये के महल में , मांग सिदुर टीका लगाए हुए , अपने पोते को गोद में बिठा कर उसे किताब पढ़ाते हुए मरुँ |
गणेश जी मुस्कुरा कर बोले अम्मा तुमने तो सब कुछ मांग लिया | पर मैंने वादा किया है इसलिए तुम्हे सब कुछ मिलेगा | तथास्तु कह कर गणेश जी अंतर्ध्यान हो गए | 

तो , जो भी गणेश जी की पूजा सच्चे ह्रदय से करता है उसे सब कुछ मिलता है |

बोलो गणेश भगवान् की जय 
...........................................................

माता - पिता में ही हैं ईश्वर 
                           एक बार देवताओ पर बहुत बड़ी विपदा आई | देवता उसका समाधान करवाने शिव जी के पास गए | वहीँ गणेश जी व् कार्तिकेय जी भी बैठे थे | भगवान् शिव ने देवताओं का संकट सुन कर दोनों से पूंछा की कौन देवताओं की मदद के लिए जाएगा | दोनों ही तैयार थे | शिव जी एक को ही भेजना चाहते थे | अत : बोले ,"जो तीनों लोकों की परिक्रमा कर के पहले लौटे गा वही देवताओं की सहायता कर सकेगा | अब कार्तिकेय जी तो मोर पर बैठ कर फुर्र से उड़ गए |  परन्तु गणेश जी वहीं खड़े सोंचते रहे की मूषक पर बैठ कर कैसे तीनों लोकों का चक्कर लगायेंगे | गणेश जी ने थोड़ी देर सोंचा व् शिव - पारवती की की सात बार परिक्रमा कर कहा ," क्योंकि माता - पिता में सभी लोक बसते हैं अत : आप दोनों की परिक्रमा कर मैंने सभी लोकों की परिक्रमा कर ली | शिव जी मुस्कुराए और उन्होंने गणेश जी को विजेता घोषित कर दिया | 

                                     माता - पिता ही धरती पर ईश्वर का रूप हैं | यह गणेश जी ने सिद्ध कर दिया | जो माता - पिता की सेवा करता है उसे हर सुख प्राप्त होता है | 

बोलो गणेश जी की जय | 

यह भी पढ़ें ...
जानिये शिवलिंग की असली व्याख्या
अक्षय तृतीय - जब मिलता है दान पुन्य का अक्षय फल

एक महासती थी पद्मिनी

पति - पत्नी के बीच सात्विक प्रेम को बढाता है तीज



Share To:

Atoot bandhan

Post A Comment:

1 comments so far,Add yours

  1. अति सुन्दर । गणेश चतुर्थी की हार्दिक शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete