अन्तराष्ट्रीय वृद्धजन दिवस पर कविता – मैं वृद्धाश्रम में हूँ

2
159


मैं
वृद्धाश्रम में हूँ
पर दुखी नहीं हूँ
अपने समवयस्कों के साथ
मिल कर
गति देती हूँ
दैनिक कार्यों को
यहाँ सब
बाँटते हैं एक साथ
अपने सुख
धूप में बैठ कर
लगाते हैं ठहाके
कभी जाते पिकनिक
तो कभी देखते फ़िल्म
टी वी पर सुनते
देश विदेश के समाचार भी
देखते सीरियल भी
पड़ता जब बीमार कोई
लग जाते हैं सब
सेवा में उसकी
जब तक वह ठीक नहीं
हो जाता
यहाँ
न नफ़रत है
न स्वार्थ
केवल प्रेम है
क्योंकि सबके दुःख सुख
एक समान हैं
अपनों से तिरस्कृत
सब बन जाते यहाँ
रक्त संबंध बिसरा
सबके अपने
भूले से कभी
आ गये बेटा बहू
पोते-पोती कभी
तो कहूँगी मैं
न आना कभी भी
अपनी दिखावे की दुनिया
लेकर यहाँ
मैं यहाँ
प्रेमधाम में
अपनों के साथ
प्रेम में मस्त हूँ
व्यस्त हूँ ।


डॉ . भारती वर्मा ‘बौड़ाई “


2 COMMENTS

  1. इसलिए ही तो कहा गया हैं कि जाहि विधि राखे राम ताहि विधि रहियो। सुंदर प्रस्तुति।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here