अलविदा श्रीदेवी

0
6


श्रीदेवी आज तू ———
लाइट,ऐक्सन,कैमरा यानी सबको तन्हा और,
विरान कर गई।
देखो हमारी भीगी नम आँखे——
हम कोई ऐक्टिंग नही करते,
इसमे आज तेरे निभाये हर किरदार की वे—-
हर एक सूरत उतर गई।
तू क्या जाने कि तेरे जाने से,
हमारी मुहब्बत के दरख्त़ो के सारे महबूब पत्तो को,
तू दर-बदर-कर गई।
हो सकता है कि इन दरख़्तो पे लगे फिर नये पत्ते,
फिर पहले सी बहार आये,
लेकिन तू क्या जाने कि किस तरह तेरे जाने से,
हमारे दौरे शाख की बुलबुल,
हमेशा कि खातिर हमारे मुहब्बत के शाख से उड़ गई।
शायद आसमां पे भी खुदा को,
अपनी सिनेमा की खातिर तेरे जैसे किरदार की जरुरत थी,
शायद आज इसी से———
तू हमसे और हमारे जैसे तमाम चाहने वालो से बिछड़ गई।
सच यकीन नही हो रहा एै “रंग” आज—–
की हमारे दिल और हमारे सिनेमा की श्रीदेवी मर गई।




अलविदा हम और हमारे दौर के कला की बेमिसाल मूरत यानी श्रीदेवी को।


@@@रचयिता—–रंगनाथ द्विवेदी।
जज कालोनी,मियाँपुर
जौनपुर–



कवि



फोटो क्रेडिट –bollywoodhungama.com





यह भी पढ़ें …
जल जीवन है

पतंगे .



आपको  कविता  .अलविदा श्रीदेवी  कैसी लगी   | अपनी राय अवश्य व्यक्त करें | हमारा फेसबुक पेज लाइक करें | अगर आपको “अटूट बंधन “ की रचनाएँ पसंद आती हैं तो कृपया हमारा  फ्री इ मेल लैटर सबस्क्राइब कराये ताकि हम “अटूट बंधन”की लेटेस्ट  पोस्ट सीधे आपके इ मेल पर भेज सकें 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here