जाने कितनी सारी बातें मैं कहते कहते रह जाती हूँ

1
28
जाने कितनी सारी बातें मैं कहते कहते रह जाती हूँ


लफ्जों को समझदारी में लपेट कर निगल जाती हूँ 

जाने कितनी सारी बातें मैं कहते कहते रह जाती हूँ । 


और तुम ये समझते हो ,मै कुछ समझ नही पाती हूँ 
है प्यार तुमको जितना मुझसे , मै समझ जाती हँ । 

बड़ी मुश्किल से मुहाने पर रोकती हूँ …बेचैनी को 
और इस तरह अपना सब्र….मै रोज़ आजमाती हूँ । 

आरजू हो ,  किसी मन्नत के मुरादो में मिले हो तुम 
सलामत रहों सदा…. दुआ मैं दिन भर गुनगुनाती हूँ ।

चाहे तुम रहो जहां कहीं ….तुम मुझसे दूर नही हो 
आखें मैं बंद करू और  अपने मन में  तुम्हें पाती है ।

अब कहीं कहां मेरा…… कोई ठौर या ठिकाना 
एक कड़ी हर रोज़ तुम्हारे और करीब आती हूँ || 

_________ साधना सिंह 
                     गोरखपुर 

लेखिका

यह भी पढ़ें …

आपको  कविता  जाने कितनी सारी बातें मैं कहते कहते रह जाती हूँ कैसी लगी   | अपनी राय अवश्य व्यक्त करें | हमारा फेसबुक पेज लाइक करें | अगर आपको “अटूट बंधन “ की रचनाएँ पसंद आती हैं तो कृपया हमारा  फ्री इ मेल लैटर सबस्क्राइब कराये ताकि हम “अटूट बंधन”की लेटेस्ट  पोस्ट सीधे आपके email पर भेज सकें 

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here