मेखला

0
58
मेखला



   
                    


संबंधों की डोर कुछ ऐसी तनी
कि रिश्तों के मनके बिखर गए,
कोई किधर , कोई किधर
और कुछ तो खो ही गए ।




मैंने उन्हें बटोर कर फिर से
पिरोने का प्रयास किया ,
पर अहसास हुआ कि
कमज़ोर डोर पर टूटे, बिखरे रिश्तों को
नहीं पिरोया जा सकता।




तब मैंने नए सिरे से,
आत्मीयता की डोर में,
निश्छल, नि:स्वार्थ प्रेम
के रिश्ते , गहरे प्रगाढ़ संबंधों
के मनके पिरोये हैं ।
इस दृढ़ विश्वास के साथ
कि यह मेखला कभी नहीं टूटेगी ।


अन्नदा पाटनी


लेखिका



यह भी पढ़ें … 


यह भी पढ़ें …

बदनाम औरतें

बोनसाई

डायरी के पन्नों में छुपा तो लूँ

बैसाखियाँ 


आपको मेखला कैसे लगी अपनी राय से हमें अवगत कराइए | हमारा फेसबुक पेज लाइक करें | अगर आपको अटूट बंधन  की रचनाएँ पसंद आती हैं तो कृपया हमारा  फ्री इ मेल लैटर सबस्क्राइब कराये ताकि हम अटूट बंधनकी लेटेस्ट  पोस्ट सीधे आपके इ मेल पर भेज सकें |


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here