श्री राम

1
22
श्री राम


तेरी पीड़ा की प्रत्यंचा को——
सब खीच रहे है राम!
तेरी नगरी मे,
तुम्हें टेंट से ढक कर,
मंदिर यहीं बनायेंगे—–
बस चीख रहे है राम।
हर चुनाव के मुद्दे मे,
बस भुना रहे अयोध्या को,
कुछ न किया और कुछ न करेंगे,
सच तो ये है कि,
ये नकली भक्त है आपके सारे,
जो अपने-अपने स्वार्थ का चंदन—–
भर माथे पे टीक रहे है राम।
तेरी पीड़ा की प्रत्यंचा को——
सब खीच रहे है राम।

@@@रचयिता—–रंगनाथ द्विवेदी।
जज कालोनी,मियाँपुर
जौनपुर—222002 (उत्तर–प्रदेश)।

कवि

पढ़िए एक से बढाकर एक कवितायें काव्य जगत में



आपको  कविता   श्री राम “कैसी लगी   | अपनी राय अवश्य व्यक्त करें | हमारा फेसबुक पेज लाइक करें | अगर आपको “अटूट बंधन “ की रचनाएँ पसंद आती हैं तो कृपया हमारा  फ्री इ मेल लैटर सबस्क्राइब कराये ताकि हम “अटूट बंधन”की लेटेस्ट  पोस्ट सीधे आपके email पर भेज सकें 

filed under- Ram, shri Ram, Ram Navami

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here