शांति और प्रेम की अलख जगाते ब्रह्मकुमारी शिवानी के 21 अनमोल विचार

2
53
शांति और प्रेम की अलख जगाते ब्रह्मकुमारी शिवानी के 21 अनमोल विचार

ॐ शांति 
ब्रह्मकुमारी शिवानी जिन्हें लोग स्नेह से सिस्टर शिवानी भी कहते हैं
, आध्यात्मिक संस्था “ प्रजापति ब्रह्मा विश्वविद्यालय” से एक आध्यात्मिक शिक्षिका
के रूपमें जुडी हुई हैं | 2008 में आस्था चैनल के प्रोग्राम “ अवेकनिंग विद
ब्रह्मकुमारी से उन्होंने लोगों को 
आध्यात्म का ज्ञान दिया | उनकी सहज शैली,  सच्चे आध्यत्मिक अनुभवों , और जीवन की तमाम
मनोविज्ञानिक समस्याओं के आसन हलों के कारण उनके प्रति लोगों की आपर श्रद्धा
उत्पन्न हुई | आज न सिर्फ भारत अपितु विश्व के अनेक देशों में उन्हें आध्यात्मिक
उत्थान के लिए बुलाया जाता है | आज हम उन्हीं प्रवचनों में से कुछ
  अनमोल विचार अपने लायें हैं –

पढ़िए -शांति और प्रेम की अलख जगाते ब्रह्मकुमारी शिवानी के 21 अनमोल विचार 


ॐ शांति 

1)कुछ भी संयोग नहीं है, हर चीज जो आप अनुभव कर रहे हैं उसी तरह से होनी थी , जैसे वो हो रही है , पाठ सीखें कृतज्ञ रहे |

2)सत्य एक डेबिट कार्ड है , पहले कीमत चुकाएं बाद में आनंद लें  , झूठ एक क्रेडिट कार्ड है पहले आनंद  लें फिर कीमत चुकाए|

3)अगर आप किसी की खुशियाँ लिखने वाली पेन्सिल नहीं बन सकते तो एक अच्छा सा इरेजर बनिए जो उनका दुःख मिटा सके |

4)यदि आप एक मुट्ठी नमक एक गिलास पानी में डाल दें तो वो खारा लगेगा , अगर आप एक मुट्ठी नमक एक झील में डाल दें तो आप पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा | इसी तरह अगर हमारा ह्रदय कसा हुआ है , और अपने अहंकार तक सीमित है तो हम पीड़ा को बहुत भुगतेंगे , परन्तु अगर हमारा ह्रदय विशाल है और दूसरों की पीड़ा को अन्तर्निहित करने को तैयार है , तो हमारा कष्ट कम होगा |

5)कभी घमंड या अहंकार में अपना सर न उठाएं , याद रखिये कि एक स्वर्ण पदक विजेता भी जब अपना सर झुकाता है तब पदक पहन पाता हैं |

हीलिंग का मतलब ये नहीं कि कभी पीड़ा थी ही नहीं , इसका मतलब ये है कि अब वो पीड़ा हमारे जीवन को नियंत्रित नहीं करती |

ॐ शांति 

6)हम जो महसूस करते हैं उसके लिए लोग या परिस्थितियाँ जिम्मेदार नहीं हैं  वे तो बस  स्टिमुलस हैं , हमारे विचार , अहसास और व्यवहार हमारी प्रतिक्रियाएं हैं , जिन्हें हम खुद निर्मित करते हैं और चुनते हैं |

7)अगर आप किसी की मदद कर रहे हैं और बदले में कुछ चाहते हैं तो आप व्यापार कर रहे हैं सेवा नहीं |

8)एक जादुई गुण है , जो हम सब के अन्दर है , जो हमारी उर्जा बदल देता है , और हमारे प्रति दूसरों की धारणा  बदल देता है , उसे  ईमानदारी  कहते हैं |

9)हम सब पर्वत के शिखर पर जीना चाहते हैं पर सारी  खुशियाँ तब घटित होती हैं जब हम पहाड़ चढ़ रहे होते हैं |

10)जीवन जन्म और मृत्यु के बीच का एक छोटा सा अंतराल है , इसलिए इस अंतराल में खुश रहिये , और दूसरों को खुश करिए … जीवन के हर एक पल का आनंद लीजिये |

लोग आप को हर्ट करते हैं … भगवान् आपको हील करेंगे
लोग आपको ह्युमिलीएट करते हैं … भगवान् आपको मैगनीफाई करेंगें
लोग आपको जज करते हैं … भगवान् आपको जस्टिफाई करेंगे 

ॐ  शांति

11)हजारों सम्बन्ध रखना कोई चमत्कार नहीं है , चमत्कार ये है कि आप के पास कोई एक ऐसा संबंध हो जो आपके साथ तब भी खड़ा रहे जब हजारों आप के खिलाफ हों |

12)हर कोई कहता है कि गलती सफलता का पहला कदम है, लेकिन गलती को सुधारना सफलता का पहला कदम है |

13) ख़ुशी कई रेडीमेड चीज नहीं है .. ये आपके कर्मों से आती है |

14)विज्ञान और आध्यात्मिकता जुड़े हुए हैं | दोनों एक ही बात कहते हैं , विश्वास मत करो ..अनुभव करो |

15)जीभ में कोई हड्डी नहीं होती , लेकिन एक टूटे हुए दिल के लिए ये शक्ति का स्तम्भ हो सकती है … इसे सावधानी से प्रयोग करिए |

सफल रिश्ते इस बात पर निर्भर नहीं करते कि हमारे बीच कितनी अच्छी अंडरस्टैंडिंग है , बल्कि इस बात पर निर्भर करते हैं कि हम कितने अच्छे से मिसअंडरस्टैंडिंग से बच पाते हैं |

ॐ शांति 

16)जीवन कोई प्रतियोगिता नहीं है , हर कोई अपनी यात्रा पर है अपने चुनावों क्षमता , मूल्यों और सिद्धांतों के अनुसार जियें |

17)जब  ” i “को “we” में बदल दिया जाता है तो “illness” भी “wellness” में बदल जाती है |

18)आपकी मुस्कान आपके चेहरे पर किये हुए भगवान् के हस्ताक्षर हैं , इसे अपने क्रोध से मिटने या आंसुओं से धुलने मत दीजिये |

19)अमीर होने के दो तरीके हैं | पहला वो सब कुछ प् लेना जो आप पाना चाहते हैं या जो है उसी में संतुष्ट हो जाना |

20)हर कही सुनी बात पर यकीन मत करिए , हर कहानी के तीन पहलू  होते हैं .. आपका , उनका और सच

21)आप अपना विजन ऊँचा रखेंगे तो आपका सर अपने आप ऊँचा उठा रहेगा |

नकारात्मक सोंच के साथ सकारात्मक जीवन नहीं जिया जा सकता , इसलिए जितना हो सके नकारात्मक विचारों को सकारत्मक विचारों में बदल दो | 

ॐ शांति  
टीम ABC

फोटो क्रेडिट – ट्रुथ ऑफ़ थॉट्स




यह भी पढ़ें …….

 आपको  लेख शांति और प्रेम की अलख जगाते ब्रह्मकुमारी शिवानी के 21 अनमोल विचार    कैसा लगा  | अपनी राय अवश्य व्यक्त करें | हमारा फेसबुक पेज लाइक करें | अगर आपको “अटूट बंधन “ की रचनाएँ पसंद आती हैं तो कृपया हमारा  फ्री इ मेल लैटर सबस्क्राइब कराये ताकि हम “अटूट बंधन”की लेटेस्ट  पोस्ट सीधे आपके इ मेल पर भेज सकें |    

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here