ॐ शांति, ब्रह्मकुमारी शिवानी जी के विचार विश्व में शांति और प्रेम की अलख जगाते हैं | पढ़िए 21 अनमोल विचार

शांति और प्रेम की अलख जगाते ब्रह्मकुमारी शिवानी के 21 अनमोल विचार

ॐ शांति 
ब्रह्मकुमारी शिवानी जिन्हें लोग स्नेह से सिस्टर शिवानी भी कहते हैं , आध्यात्मिक संस्था “ प्रजापति ब्रह्मा विश्वविद्यालय” से एक आध्यात्मिक शिक्षिका के रूपमें जुडी हुई हैं | 2008 में आस्था चैनल के प्रोग्राम “ अवेकनिंग विद ब्रह्मकुमारी से उन्होंने लोगों को  आध्यात्म का ज्ञान दिया | उनकी सहज शैली,  सच्चे आध्यत्मिक अनुभवों , और जीवन की तमाम मनोविज्ञानिक समस्याओं के आसन हलों के कारण उनके प्रति लोगों की आपर श्रद्धा उत्पन्न हुई | आज न सिर्फ भारत अपितु विश्व के अनेक देशों में उन्हें आध्यात्मिक उत्थान के लिए बुलाया जाता है | आज हम उन्हीं प्रवचनों में से कुछ  अनमोल विचार अपने लायें हैं -

पढ़िए -शांति और प्रेम की अलख जगाते ब्रह्मकुमारी शिवानी के 21 अनमोल विचार 


ॐ शांति 

1)कुछ भी संयोग नहीं है, हर चीज जो आप अनुभव कर रहे हैं उसी तरह से होनी थी , जैसे वो हो रही है , पाठ सीखें कृतज्ञ रहे |


2)सत्य एक डेबिट कार्ड है , पहले कीमत चुकाएं बाद में आनंद लें  , झूठ एक क्रेडिट कार्ड है पहले आनंद  लें फिर कीमत चुकाए|


3)अगर आप किसी की खुशियाँ लिखने वाली पेन्सिल नहीं बन सकते तो एक अच्छा सा इरेजर बनिए जो उनका दुःख मिटा सके |


4)यदि आप एक मुट्ठी नमक एक गिलास पानी में डाल दें तो वो खारा लगेगा , अगर आप एक मुट्ठी नमक एक झील में डाल दें तो आप पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा | इसी तरह अगर हमारा ह्रदय कसा हुआ है , और अपने अहंकार तक सीमित है तो हम पीड़ा को बहुत भुगतेंगे , परन्तु अगर हमारा ह्रदय विशाल है और दूसरों की पीड़ा को अन्तर्निहित करने को तैयार है , तो हमारा कष्ट कम होगा |


5)कभी घमंड या अहंकार में अपना सर न उठाएं , याद रखिये कि एक स्वर्ण पदक विजेता भी जब अपना सर झुकाता है तब पदक पहन पाता हैं |


हीलिंग का मतलब ये नहीं कि कभी पीड़ा थी ही नहीं , इसका मतलब ये है कि अब वो पीड़ा हमारे जीवन को नियंत्रित नहीं करती |


ॐ शांति 

6)हम जो महसूस करते हैं उसके लिए लोग या परिस्थितियाँ जिम्मेदार नहीं हैं  वे तो बस  स्टिमुलस हैं , हमारे विचार , अहसास और व्यवहार हमारी प्रतिक्रियाएं हैं , जिन्हें हम खुद निर्मित करते हैं और चुनते हैं |


7)अगर आप किसी की मदद कर रहे हैं और बदले में कुछ चाहते हैं तो आप व्यापार कर रहे हैं सेवा नहीं |


8)एक जादुई गुण है , जो हम सब के अन्दर है , जो हमारी उर्जा बदल देता है , और हमारे प्रति दूसरों की धारणा  बदल देता है , उसे  ईमानदारी  कहते हैं |


9)हम सब पर्वत के शिखर पर जीना चाहते हैं पर सारी  खुशियाँ तब घटित होती हैं जब हम पहाड़ चढ़ रहे होते हैं |


10)जीवन जन्म और मृत्यु के बीच का एक छोटा सा अंतराल है , इसलिए इस अंतराल में खुश रहिये , और दूसरों को खुश करिए ... जीवन के हर एक पल का आनंद लीजिये |


लोग आप को हर्ट करते हैं ... भगवान् आपको हील करेंगे
लोग आपको ह्युमिलीएट करते हैं ... भगवान् आपको मैगनीफाई करेंगें
लोग आपको जज करते हैं ... भगवान् आपको जस्टिफाई करेंगे 


ॐ  शांति

11)हजारों सम्बन्ध रखना कोई चमत्कार नहीं है , चमत्कार ये है कि आप के पास कोई एक ऐसा संबंध हो जो आपके साथ तब भी खड़ा रहे जब हजारों आप के खिलाफ हों |


12)हर कोई कहता है कि गलती सफलता का पहला कदम है, लेकिन गलती को सुधारना सफलता का पहला कदम है |


13) ख़ुशी कई रेडीमेड चीज नहीं है .. ये आपके कर्मों से आती है |


14)विज्ञान और आध्यात्मिकता जुड़े हुए हैं | दोनों एक ही बात कहते हैं , विश्वास मत करो ..अनुभव करो |


15)जीभ में कोई हड्डी नहीं होती , लेकिन एक टूटे हुए दिल के लिए ये शक्ति का स्तम्भ हो सकती है ... इसे सावधानी से प्रयोग करिए |


सफल रिश्ते इस बात पर निर्भर नहीं करते कि हमारे बीच कितनी अच्छी अंडरस्टैंडिंग है , बल्कि इस बात पर निर्भर करते हैं कि हम कितने अच्छे से मिसअंडरस्टैंडिंग से बच पाते हैं |


ॐ शांति 

16)जीवन कोई प्रतियोगिता नहीं है , हर कोई अपनी यात्रा पर है \ अपने चुनावों क्षमता , मूल्यों और सिद्धांतों के अनुसार जियें |


17)जब  " i "को "we" में बदल दिया जाता है तो "illness" भी "wellness" में बदल जाती है |


18)आपकी मुस्कान आपके चेहरे पर किये हुए भगवान् के हस्ताक्षर हैं , इसे अपने क्रोध से मिटने या आंसुओं से धुलने मत दीजिये |


19)अमीर होने के दो तरीके हैं | पहला वो सब कुछ प् लेना जो आप पाना चाहते हैं या जो है उसी में संतुष्ट हो जाना |

20)हर कही सुनी बात पर यकीन मत करिए , हर कहानी के तीन पहलू  होते हैं .. आपका , उनका और सच


21)आप अपना विजन ऊँचा रखेंगे तो आपका सर अपने आप ऊँचा उठा रहेगा |



नकारात्मक सोंच के साथ सकारात्मक जीवन नहीं जिया जा सकता , इसलिए जितना हो सके नकारात्मक विचारों को सकारत्मक विचारों में बदल दो | 


ॐ शांति  
टीम ABC

फोटो क्रेडिट - ट्रुथ ऑफ़ थॉट्स


यह भी पढ़ें .......

 आपको  लेख "शांति और प्रेम की अलख जगाते ब्रह्मकुमारी शिवानी के 21 अनमोल विचार   " कैसा लगा  | अपनी राय अवश्य व्यक्त करें | हमारा फेसबुक पेज लाइक करें | अगर आपको "अटूट बंधन " की रचनाएँ पसंद आती हैं तो कृपया हमारा  फ्री इ मेल लैटर सबस्क्राइब कराये ताकि हम "अटूट बंधन"की लेटेस्ट  पोस्ट सीधे आपके इ मेल पर भेज सकें |    
Share To:

Atoot bandhan

Post A Comment:

2 comments so far,Add yours