प्रेरक कथा -दो मेंढक

2
87
                               

प्रेरक कथा -दो  मेंढक








दो मेंढक एक ऐसी प्रेरक कथा है  हमें बहुत कुछ सोंचने पर विवश कर देती हैं | यकीनन मेंढक को प्रतीक बना कर  कर कही गयी ये कथा हमारी  दुविधा को कम कर के सफलता का रास्ता दिखाती है | 

Motivational story-Two frogs(in Hindi)

दो मेंढक थे वो बहुत अच्छे दोस्त थे | हर जगह साथ- साथ जाते | साथ -साथ घुमते फिरते , खेलते कूदते , खाते -पीते| एक बार की बात है वो एक कुए के ऊपर से गुज़र रहे थे | कुआं ज्यादा गहरा नहीं था , पर उसमें काई बहुत थी | कुए के ऊपर भी काई थी | उनका पैर फिसला और वो कुंए में गिर पड़े |

कुए में गिरते ही वो दोनों बचाओ -बचाओ चिल्लाने लगे , साथ ही बाहर निकलने की कोशिश करने लगे | | आसपास के मेंढक कुए की जगत पर इकट्ठे हो गए | ये दोनों मेंढक जितनी कोशिश करते उतनी बार ही वापस कुए में गिर जाते |

जो मेंढक बाहर इकट्ठे थे , जब उन्होंने यह दृश्य देखा तो जोर -जोर से चिल्लाने लगे , ” कोशिश बेकार है तुम लोग नहीं निकल पाओगे , हाथ पैर  मत चलाओ ,  होनी को स्वीकार कर लो |

अब उनमें से एक मेंढक तो उनकी बात मान गया और निराश हो कर हाथ पैर चलने बंद कर दिए , वो ईश्वर को याद करने लगा | क्योंकि अगर मदद करेंगे तो वो ही करेंगे और नहीं करेंगे तो अंत समय भगवान् का नाम लेने से अच्छा ही रहेगा |

परन्तु दूसरा मेंढक कोशिश करता रहा | लोग चिल्लाते रहे मत करो , कोशिश बेकार है पर उसने एक न मानी वो कोशिश करता रहा | यहाँ तक की वो लहु लुहान हो गया , फिर भी बाहर निकलने की कोशिश करता रहा |

अंत में उसने एक ऐसी छलांग लगायी कि वो बाहर आ गया पर उसका दोस्त कुए में डूब कर मर चूका था |

आप जानते हैं कि वो मेंढक कैसे निकला … क्योंकि वो मेंढक बहरा था |

                         मित्रों ये केवल प्रतीक हैं | जब भी हम कुछ काम शुरू करते हैं दस लोग आ जाते हैं जो हमें डीमोटीवेट करते हैं , रहने दो तुमसे नहीं होगा , जाने दो , छोड़ दो … ये बातें हमारे आत्मबल को कम करती हैं | और हम में से ज्यादातर लोग काम को छोड़ देते हैं | परन्तु जो लोग इन बैटन को अनसुना करके अपना प्रयास नहीं रोकते हैं , सफलता न मिले तब भी करे जाते हैं | अन्तत: उन्हें ही सफलता मिलती हैं |

सबसे बड़ा रोग -क्या कहेंगे लोग … संदीप माहेश्वरी 

टीम ABC

यह भी पढ़ें …

लाटरी का टिकट

आपको  कहानी   प्रेरक कथा -दो  मेंढक” कैसी लगी   | अपनी राय अवश्य व्यक्त करें | हमारा फेसबुक पेज लाइक करें | अगर आपको अटूट बंधन  की रचनाएँ पसंद आती हैं तो कृपया हमारा  फ्री इ मेल लैटर सबस्क्राइब कराये ताकि हम अटूट बंधनकी लेटेस्ट  पोस्ट सीधे आपके इ मेल पर भेज सकें 

2 COMMENTS

  1. बहुत ही अच्छी जानकारी मिली इस पोस्ट से,यह मेरी फेवरेट वेबसाइट है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here