कई बार महत्वाकांक्षाओं के दवाब में हम अपने पैशन से भटक जाते हैं | ऐसे में यह जानना जरूरी होता है कि आखिर हमारा पैशन क्या है ?



मेरा पैशन क्या है ?


पैशन यानि वो काम जिसे हम अपने दिल की ख़ुशी के लिए करते हैं | लेकिन जब हम उस काम को करते हैं तो कई बार महत्वाकांक्षाओं के कारण या अतिशय परिश्रम और दवाब के कारण हम उसके प्रति आकर्षण खो देते हैं | ऐसे में फिर एक नया पैशन खोजा जाता है फिर नया ...और फिर  और नया | ये समस्या आज के बच्चों में बहुत ज्यादा है | यही उनके भटकाव का कारण भी है | आखिर कैसे समझ में आये कि हमारा पैशन क्या है और कैसे हम उस पर टिके रहे | प्रस्तुत है ‘अगला कदम’ में नुपुर की असली कहानी जो शायद आपको और आपके बच्चों को भी अपना पैशन जानने में मदद करे | 


मेरा पैशन क्या है ?


धा-धिन-तिन-ता /ता धिन तिन ता 
धा-धिन-तिन-ता /ता धिन तिन ता 
                                               मैं अपना बैग लेकर दरवाजे के  बाहर निकल रही हूँ , पर ये आवाजें मेरा पीछा कर रही हैं | ये आवाजें जिनमें कभी मेरी जान बसती थी , आज मैं इन्हें बहुत पीछे छोड़ कर भाग जाना चाहती हूँ | फिर कभी ना आने के लिए | 

                                             मेरी स्मृतियाँ मुझे पांच साल की उम्र में खींच कर ले जा रही हैं |    नुपुर ...बेटा नुपुर , मास्टरजी आ गए | और मैं अपनीगुड़ियाछोड़कर संगीत कक्ष में पहुँच जाती और 
 मास्टर जी मुझे नृत्य और संगीत की शिक्षा देना शुरू कर देते | अक्सर मास्टर जी माँ सेकहा करते, "बहुत जुनूनी है आप की बिटिया , साक्षात सरस्वती का अवतार | इसे तो नाट्य एकादमी भेजिएगा फिर देखना कहाँ से कहाँ पहुँच जायेगी |" माँ का चेहरा गर्व से भर जाता | 

रात को माँ खाने की मेज पर यह बात उतने ही गर्व से पिताजी को बतातीं | हर आने -जाने वालों को मेरी उपलब्द्धियों के बारे में बताया जाता | कभी -कभी उनके सामने नृत्य कर के और गा कर दिखाने को कहा जाता | सबकी तारीफ़ सुन -सुन कर मुझे बहुत ख़ुशी मिलती और मैं दुगुने उत्साह से अपनी सपने को पूरा करने में लग जाती | 

कितनी बार रिश्तेदारों की बातें मेरे कान से टकरातीं , " बहुत जुनूनी है तभी तो स्कूल, ट्यूशन होमवर्क
सब करके भी इतनी देर तक अभ्यास कर लेती हैं | कोई साधारण बच्चा नहीं कर सकता | धीरे -धीरे मुझे भी अहसास होने लगा कि ईश्वर ने मुझे कुछ ख़ास बना कर भेजा है | यही वो दौर था जब मैं एक अच्छी शिष्य की तरह माँ सरस्वती की आराधिका भी बन गयी | 


पिताजी के क्लब स्कूल, इंटर स्कूल , राज्य स्तर के जाने जाने कितनि प्रतियोगिताएं मैंने जीती | मेरे घर का शो केस मेरे द्वारा जीती हुई ट्रोफियों से भर गया | १८ साल की होते -होते संगीत और नृत्य मेरा जीवन बन गया और २० वर्ष की होते -होते मैंने एक बड़ा संगीत ग्रुप ज्वाइन कर लिया | ये मेरे सपनों का एक पड़ाव था , जहाँ से मुझे आगे बहुत आगे जाना था | परन्तु ...


"नुपुर  रात दस बजे तक ये नृत्य ातैयार हो जाना  चाहिए | " 
" नुपुर १२ बज गए दोपहर के और अभी तक तुमने इस स्टेप पर काम नहीं किया |" 
" नुपुर ये नृत्य तुम नहीं श्रद्धा करेगी |" 
 " नुपुर श्रद्धा बीमार है आज रात भर प्रक्टिस करके कल तुम्हें परफॉर्म करना है |"
"नुपुर , आखिर तुम्हें हो क्या गया है ? तुम्हारी परफोर्मेंस बिगड़ क्यों रही है ?"
"ओफ् ओ ! तुमसे तो इतना भी नहीं हो रहा |"
" नुपुर मुझे नहीं लगता तुम कुछ कर पाओगी |"

और उस रात तंग आकर मैंने अपने पिता को फोन कर ही दिया , " पापा , मुझसे नहीं हो हो रहा है | यहाँ आ कर मुझे समझ में आया कि नृत्य मेरा पैशन नहीं है | मैं सबसे आगे निकलना चाहती हूँ | सबसे बेहतर करना चाहती हूँ | लें मैं पिछड़ रही हूँ | "


" अरे नहीं बेटा, तुम्हें तो बहुत शौक था नृत्यु का , बचपन में तुम कितनी  मेहनत करती थी | तुम्हें बहुत आगे जाना है |मेरा बच्चा ऐसे अपने जूनून को बीच रास्ते में नहीं छोड़ सकता |" पिताजी ने मुझे समझाने की कोशिश करी | 

मैंने भी समझने की कोशिश करी पर अब व्यर्थ | मुझे लगा कि मैं दूसरों से पिछड़ रहीं हूँ | मैं उनसे कमतर हूँ | मैं उन्हें बीट नहीं कर सकती | ऐसा इसलिए है कि म्यूजिक मेरा पैशन नहीं है | और मैं ऐसी जिन्दगी को नहीं ओढ़ सकती जो मेरा पैशन ना हो | 

मैंने अपना अंतिम निर्णय पिताजी को सुना दिया | 

वो भी मुझे समझा -समझा कर हार गए थे | उन्होंने मुझे लौट आने की स्वीकृति दे दी | 


घर आ कर मैंने हर उस चीज को स्टोर में बंद कर दिया जो मुझे याद दिलाती थी कि मैं नृत्य कर लेती हूँ | मैंने अपनी पढाई पर फोकस किया  और बी .ऐड करने के बाद मैं एक स्कूल में पढ़ाने लगी | 

मैं खुश थी मैंने अपना जूनून पा लिया था | समय तेजी से आगे बढ़ने लगा |
--------------------------------------

इस घटना को हुए पाँच वर्ष बीत गए | एक दिन टी. वी पर नृत्य का कार्यक्रम देखते हुए मुझे नृत्यांगना के स्टेप में कुछ गलती महसूस हुई | मैंने स्टोर से जाकर उस स्टेप को करके देखा ...एक बार , दो बार , दस बार | आखिरकार मुझे समझ आ गया कि सही स्टेप क्या होगा | मुझे ऐसा करके बहुत अच्छा लगा | 

अगले दिन मैं फिर स्टोर में गयी और अपनी पुरानी डायरी निकाल लायी | उसमें एक नृत्य को कत्थक और कुचिपुड़ी के फ्यूजन के तौर पर स्टेप लिखने की कोशिश की थी | वो  पन्ना अधूरा था | मैं उसमें फिर से जुट गयी | सारी  रात मैं उसे लिखती रही , आगे की दो रात भी ...उन्हें कर कर के देखती रही | मुझे असीम शांति मिल रही थी | आखिरकार मैंने वो कर ही लिया | 

धीरे -धीरे संगीत के सामान स्टोर से निकल कर मेरे कमरे में सजने लगे | रात में वो अभ्यास करने में मुझे असीम शांति मिलने लगी | 


तभी मन ने एक हल्का सा झटका दिया | ये तो मेरा पैशन नहीं है | आखिर मैं ये क्यों कर रही हूँ | जबकि इस समय मैं वो काम एक प्रोफेशन के रूप में अपना चुकी हूँ जिसमें मेरा पैशन है | फिर ... फिर ये क्यों ?


मन की अदालत में खुद ही मुवक्किल और खुद ही अपराधी के बीच में जिरह चलने लगी | 

"नृत्य मेरा पैशन कैसे हो सकता है | अगर होता तो मैं वो ग्रुप छोड़ कर ही क्यों आती |" 
" लेकिन ...लेकिन आज तो मुझे इसमें आनंद मिल रहा है |"
"नुपुर , ये महज टाइम पास है तुम्हारा जूनून नहीं है |"
"लेकिन आज ... आज तो मुझे अच्छा लग रहा है |"

"फिर ...आखिर तुमने वो ग्रुप क्यों छोड़ा ?" 

                                   मैं अपने ही प्रश्नों के उत्तर तलाशने लगी | ग्रुप के वो काम के दवाब वाले घंटे | मेरा अत्यधिक महत्वाकांक्षी होना | सबसे जल्दी सबसे आगे निकलने की होड़ .....इन सब ने मुझसे मेरा पैशन , मेरा जूनून, मेरा नृत्य छीन लिया था | 

आज जब मैं खुद अपनी ख़ुशी से अपने लिए ये सब कर रही हूँ तो मुझे आनंद आ रहा है | 


                        हममें से कई लोग जब वो अपने पैशन पर काम करते हैं तो महत्वाकांक्षाओं का दवाब उसने पैशन के आड़े आ जाता है | दवाब का प्रभाव रचनात्मकता पर पड़ता है और पेश का दम घुटने लगता है | लगने लगता है कि ये तो मेरा पैशन है ही नहीं | फिर शुरू होता है एक दिशा सेदूसरी दिशा भटकने का सफ़र | 


पैशन वो है जो कोयल की तरह कूके , फूल की तरह खिले , भौंरों की तरह गुनगुनाये | यह अक्सर किशोरावस्था तक आते -आते स्पष्ट हो जाता है | पर महत्वाकांक्षा के बोझ तले उसका गला हम खुद ही घोंटते हैं | 


ऐसा नहीं है कि ये केवल कला के क्षेत्र में हो | कभी देखा है अच्छे खासे पढ़ने वाले बच्चे IIT में सेलेक्ट होने का दवाब नहीं झेल पाते और पढ़ाई से ही नाता तोड़ लेते हैं | कई पढ़ाई से नाता तो नहीं तोड़ते हैं पर बुझे मन से आगे बढ़ते जाते हैं | जैसे अपने सपनॉन के बोझ से पिसे जा रहे हों | 

ऐसा तभी हो सकता है जब हम ये सोचना छोड़ दें कि हम इससे क्या प्राप्त कर सकते हैं | 

अगर आप भी चाहते हैं कि आपके पैशन के प्रति आपका स्पार्क वापस आ जाए तो ...

कुछ भी प्राप्त करने के लिए मत करो 

                                          संसार में सफलता की परिभाषा है , जिसे नाम , दाम और उपलब्द्धियों से आंका जाता है | पर क्या इसमें पैशन का दम नहीं घुटता | इस अंतर को समझना होगा कि इन चीजों को पाने के लिए पैशन पर काम नहीं करना है | पैशन पर काम करन है तो ये चीजे बाई प्रोडक्ट के रूप में मिलती हैं | सफल और असफल व्यक्ति में बस इतना ही अंतर होता है | जो लोग अपेक्षाओं का दवाब नहीं डालते हैं वो सफल हो ही जाते हैं | 


अपने अंत : आलोचक को मत सुनो 
                                         हम सब के अन्दर एक इनर क्रिटिक रहता है जो हमें कम करके आँकता रहता है | हम सब अपने आगे एक मिसाल खड़ीे हैं और उससे खुद की तुलना कर कर के निराश होते रहते हैं | अपने को और अपने काम को जज मत करो | किसी से प्रतिस्पर्द्धा भी मत करो , केवल वो करो जिसे तुम्हारा दिल करना चाहता है |

समय निकालें -
                 पैशन वो चीज है जिसे करने के लिए आपसे कोई कुछ नहीं कहता | बाकी चीजें आपका समय व् ध्यान माँगती हैं | अगर आप अपने पैशन में बिना प्रेशर के बढ़ना चाहते हैं तो आपको ये सुनिश्चित करना होगा कि आप उसके लिए थोड़ा समय निकालें | चाहें वो समय महज १५ मिनट ही क्यों ना हो | 

कभी भी समय ज्यादा नहीं हुआ -

                            पैशन तो वो है जो आपके दिल के करीब है आपकी धडकनों में बसता है | क्या फरक पड़ता है कि आपने और कामों में उसे छोड़ रखा था | 'जब जाग जाओ तभी सवेरा की तर्ज पर आप उसे कभी भी दुबारा शुरू कर सकते हैं | अगर आप देर से शुरू करते हैं तो निराश होने के स्थान पर ये सोचिये कि उम्र के इन वर्षों में आपके अनुभव का खजाना और बढ़ गया है | आप और परिपक्कव हुए हैं और समृद्ध हुए हैं | इसलिए आप अब पहले से बेहतर कर पायेंगे | 


वंदना बाजपेयी 


यह भी पढ़ें ...



आपको  लेख " मेरा पैशन क्या है ?" कैसा लगा  | अपनी राय अवश्य व्यक्त करें | हमारा फेसबुक पेज लाइक करें | अगर आपको "अटूट बंधन " की रचनाएँ पसंद आती हैं तो कृपया हमारा  फ्री इ मेल लैटर सबस्क्राइब कराये ताकि हम "अटूट बंधन"की लेटेस्ट  पोस्ट सीधे आपके email पर भेज सकें 
keywords:key to success , emotions , success , passion                                



Share To:

Atoot bandhan

Post A Comment:

3 comments so far,Add yours

  1. बेहतरीन लेख

    ReplyDelete
  2. प्रेरणा दायक रचना।भटकने से बचने की अच्छी सलाह दी।

    ReplyDelete
  3. वंदना दी,नूपुर की कहानी हर किसी को अपना पैशन ढूंढने में निश्चिंत ही मदद करेगी। सुंदर रचना।

    ReplyDelete