LATEST ARTICLES

कॉफी, ताज और हरी आंखों वाला लड़का!

सुधांशु गुप्त जी की कई कहानियाँ पढ़ी हैं और पसंद भी की | उनकी कहानियों में एक खास बात है कि उसका एक बड़ा...

मज़हब

प्रेम का कोई मजहब  नहीं होता |प्रेम अपने आप में एक मजहब  है | लेकिन क्या समज ऐसा होने देता है ? क्या धर्म...

“हाँ…नपुंसक हूँ मैं”

राजीव तनेजा जी एक ऐसे व्यंगकार जो आस पास की घटनाओं से ताना -बाना उठाकर व्यंग -कथा को बुनते हैं | उनकी हर व्यंग...

सेल्फ आइसोलेशन के 21 दिन – हम कर लेंगे

हमारे देश के प्रधानमंत्री मोदी जी ने घोषणा करी है कि covid-19 महामारी के खतरे से देश को बचाने के लिए 25 मार्च 2020...

Covid-19 : कोरोना पैनिक से बचने के लिए सही सोचें

  एक नन्हा सा दिया भले ही वो किसी भी कारण किसी भी उद्देश्य से जलाया जाए पूरे मार्ग का अंधियारा हरता है ...गौतम बुद्ध   आज...

यामिनी नयन गुप्ता की कवितायें

कविता मानस पर उगे भाव पुष्प है | मानव हृदय की भावनाएं अपने उच्चतम बिंदु पर जा कर कब कैसे कविता का रूप ले...

दोस्ती

  कोई भी रिश्ता हो अगर वहां दोस्ती का भाव हो तो वो रिश्ता अच्छा होता है | पति -पत्नी के रिश्तों में अक्सर अपेक्षाओं...

नया जमाना आयेगा

ज़माने के बारे में दो कथन आम तौर पर प्रचलन में हैं | एक तो "ज़माना बदल गया" है और दूसरा "नया  ज़माना आएगा"|...

प्रेम भरद्वाज –शोकाकुल कर गया शब्दों के जादूगर का असमय...

    प्रेम भरद्वाज -25 अगस्त 1965-10 मार्च 2020 प्रेम भरद्वाज, एक ऐसा नाम जिनका जिक्र आते ही ध्यान में जो पहली चीज उभरती है वो है...

कृष्णा सोबती -एक बेबाक रचनाकार

कृष्णा सोबती समय से आगे रहने वाली हिंदी साहित्य की ऐसी अप्रतिम साहत्यिकार थीं जिन्होंने नारी अस्मिता को उस दौर में रेखांकित किया था...