22 साल की प्रेरणा आज एक भूतपूर्व नाम नहीं है | वो आज भी एक मरीज से दूसरे मरीज में जीने की इच्छा उत्पन्न करते हुए साँसे ले रही है | पढ़िए प्रेरणादायी कहानी ...



रिपोर्ट लेते जाते समय मिताली का दिल तेजी से धडक रहा था | विपुल ने अपने आप को संभालते हुए उससे कहा ," डरो मत मिताली , ईश्वर  की कृपा से सब सही होगा | जवाब में मिताली मुस्कुरा दी | पर भय उसकी आँखों में साफ़ दिखाई दे रहा था | सारे रास्ते वो भगवान् का नाम लेती रही | बिमारी के लक्षण   तो दिखाई नहीं  दे रहे थे | इसलिए  आशा थी की  की सब ठीक होगा | हॉस्पिटल के काउंटर पर लैब असिस्टैंट ने उसे रिपोर्ट पकड़ा दी और एक क्षण  में उसकी दुनिया बदल गयी | अब   शक की कोई गुंजाइश नहीं थी | रिपोर्ट पॉजिटिव थी | रिपोर्ट के साथ ही  कुछ और जरूरी टेस्ट करने की डॉक्टर की हिदायत भी थी |



                             मिताली की आँखों के सामने अँधेरा छा गया | विपुल की आँखें भी डबडबा रही थीं |३८ साल , ये भी कोई उम्र होती है दुनिया छोड़ने की |  दोनों बच्चे अभी छोटे थे | क्या होगा ... कैसे होगा | कैंसर ... ये आज उसके लिए महज एक शब्द नहीं था | उसे लग रहा था जैसे उसे "मौत का फरमान"  सुना दिया गया हो | उसे चारों  ओर मौत दिखाई दे रही थी और दिखाई दे रहे थे ममता के लिए तरसते बच्चे |माँ को खोने का दुःख क्या होता है , भला उससे बेहतर और कौन जान सकता था  | पांच साल की नन्ही उम्र में उसने भी अपनी माँ को खो दिया था | बचपन में ही जब उसकी सहेलियां खेल कूद में व्यस्त रहतीं ,  वो बड़ी हो गयी थी | एक जिम्मेदार माँ ... जिसे अपने छोटे भाई का ध्यान रखना है | पिताजी के ऑफिस से आने पर चाय बना कर देनी है | फिर अपनी पढाई भी करनी है | क्या इतिहास अपनी विद्रूपता को फिर से दोहराएगा ? मिताली को लगा जैसे किसी ने उसके कलेजे में खंजर  गड़ा  दिया हो , और अन्दर ही अन्दर रक्त बह रहा हो |जिसका शोर उसके कानों को बहरा करे दे रहा है |

                           घर आने के बाद बच्चों से गले लग कर कितना रोई थी मिताली | एक हफ्ते तक वो दूसरे टेस्ट कराने के लिए राजी ही नहीं हुई | दुःख  का आलम ये था की उस हफ्ते न तो उसने ठीक से स्नान किया न खाना खाया न नींद ही ली | उसे शिकायत थी ईश्वर से जिसने उसे इस बिमारी को दिया था |आखिर उसका कसूर क्या था ? जीवन अपनी चाल से चलता है पर हम ऐसी आकस्मिक घटनाओं में ईश्वर को दोषी ठहराते हैं , या तो हम अपना कसूर समझ नहीं पाते या उसके सूत्र पिछले जन्म के रहस्य  में ढूंढते हैं |

                                          बड़ी मुश्किल से मिताली आगे के टेस्ट के लिए तैयार हुई | यूटेराइन कैंसर स्टेज 3 बी डिटेक्ट हो चुका  था | ट्यूमर साइज़ इतना बड़ा था की सीधे ऑप्रेशन  नहीं किया जा सकता था | डॉक्टर ने पहले कीमो थेरेपी कराने के लिए कहा | बुझे मन से मिताली विपुल के साथ जाने को राजी  हुई | वो मिताली जो अपने स्टायल के लिए जानी जाती थी | जो गेट से बाहर भी निकलती  थी तो अपने बाल संवार लेती थी |कपड़ों से मैचिंग चप्पल , इयरिंग्स और मैचिंग बैग उसकी पहचान थे | आज वो घर से ऐसे निकली की अगर देखती तो शायद   खुद को भी पहचान नहीं पाती | वही नाईट सूट , बेतरतीब बाल , हवाई चप्पल | जैसे उसने बिना लड़े  ही मौत को स्वीकार कर लिया था |

हॉस्पिटल में बहुत मरीज थे | सब अपनी बारी की प्रतीक्षा कर रहे थे | ज्यादातर का हाल मिताली की तरह ही था |बुझे  चेहरे , निराश आँखे और मौत की प्रतीक्षा करता मन |


 तभी मिताली की नज़र रिसेप्शन पर गयी | वहां खड़ी एक लड़की सबका ध्यान खींच रही थी | उम्र होगी यही कोई २१ , २२ साल , सुर्ख लाल लॉग स्कर्ट व् टॉप , बिलकुल नए फैशन का , करीने से कढ़े बाल , उसमें ड्रेस के रंग से मैच करता खूबसूरत गुलाब जैसे अपने भाग्य पर इतरा  रहा हो | हाथ में खूबसूरत लाल कड़े | पर सबसे ज्यादा ध्यान खींच रही थी उसकी हंसी , खनकदार ... जैसे किसी ने सितार के सातों तार इकट्ठे छेड़ दिए हों | 


शायद  कोई और समय होता तो वो भी खुश होती | उससे मित्रता करती | जिंदादिल लोग उसे कितने पसंद थे | पर आज मिताली ने अपना मुंह निराशा से दूसरी तरफ फेर लिया | उसकी नज़र अपनी हवाई चप्पलों पर पड़ी | उसने फिर उस लड़की की तरफ देख कर मन ही मन कहा ," ओह ! ये भाग्यशाली लोग , इनके पास जीवन है , सपने हैं , खुशियाँ हैं फिर क्यों न चहके | अगर उसे भी कैंसर न हुआ होता तो वो भी चहकती | पर शायद इस लड़की की तरह इतने मरीजों के बीच ऐसे न खिलखिलाती | अरे थोडा तो लिहाज़ रखना चाहिए , मरते हुए मरीजों का | मौत शब्द मिताली के दिमाग से निकलने को तैयार ही नहीं था |

 तभी उसका नाम पुकारा ,'प्रेरणा "और वो डॉक्टर के केबिन में चली गयी | मिताली को तो जैसे सांप सूंघ गया ," तो , तो क्या उसे भी कैंसर है | पर वो इतनी खुश कैसे रह सकती है | हो सकता है वो अपने किसी रिश्तेदार का हाल पूंछने आई हो | अपने अन्दर चल रहे प्रश्नों को शांत करने के लिए मिताली रिसेप्शन पर गयी और पूंछा ," वो .. वो लड़की जो अभी आप के पास खड़ी थी , क्या वो किसी को दिखाने आई थी | रिशेपशिनिस्ट  गहरी सांस ले कर बोली ," नहीं , प्रेरणा को खुद ही कैंसर है , टर्मिनल स्टेज ...महीने दो महीने से ज्यादा नहीं जियेगी |


मिताली का दिल धक से रह गया | वो धीरे से बोली ," क्या उसे पता है ? रिशेपशिनिस्ट ने हां में सर हिलाया | इससे पहले की मिताली कुछ और पूँछती | प्रेरणा बाहर आ गयी | मिताली ने प्रेरणा का हाथ पकड़ कर कहा ," आपके बारे में जान कर बहुत दुःख हुआ | पर ... पर आप इतना मेनेज कैसे कर लेती हैं | मेरा तो बाल संवारने का मन भी नहीं होता | मिताली की बात पर प्रेरणा फिर वैसी ही खिलखिलाई | फिर बोली ," जानती हैं जब मुझे भी कैंसर के बारे में पता चला तो मेरा हाल भी आपके जैसा था |


 " मौत का फरमान " सुनते ही मेरा भी मन तैयार होने का नहीं कर रहा था | पर यहाँ आकर जब मैंने सारे बुझे हुए चेहरे देखे तो मुझे लगा भले ही मैं न रहूँ पर इन लोगों को जिंदगी की आखिरी सांस तक जीने की प्रेरणा तो दे ही सकती हूँ | शायद किसी का रोग टर्मिनल न हो , शायद किसी की जिजीविषा उसकी बिमारी पर भारी पड़ जाए | और अगर मरना भी हो तो जितने दिन मिले हैं उतने तो भरपूर जी कर मरा जाए |

                          प्रेरणा की बात सुन कर मिताली में साहस भर गया | उसने तय कर लिया की वो पूरे मनोबल के साथ इलाज़ करवाएगी | उसने भी खिलखिलाना शुरू किया | उसके चहकते ही बच्चे और विपुल् भी  चहकने लगे | पूरा घोंसला मीठे सुरों से गूंजने लगा | अबकी बार जब वो डॉक्टर के यहाँ गयी तो बेतरतीब , बदहवास सी नहीं | बल्कि करीने से तैयार हो कर ... क्योंकि अब उसे जीवन की अंतिम सांस तक जीना जो था | और दूसरे मरीजों के लिए प्रेरणा  बनना था |


प्रेरणा अब नहीं है | पर उसकी दी हुई प्रेरणा एक मरीज से दूसरे मरीज में निरतंर जीजिविषा उत्पन्न  कर रही थी |

वंदना बाजपेयी 


यह भी पढ़ें ... 
बाल मनोविज्ञान पर आधारित पाँच लघु कथाएँ

सफलता का बाग़

तुम्हारे बिना

काकी का करवाचौथ

आपको आपको  कहानी  "प्रेरणा " कैसी लगी   | अपनी राय अवश्य व्यक्त करें | हमारा फेसबुक पेज लाइक करें | अगर आपको "अटूट बंधन " की रचनाएँ पसंद आती हैं तो कृपया हमारा  फ्री इ मेल लैटर सबस्क्राइब कराये ताकि हम "अटूट बंधन"की लेटेस्ट  पोस्ट सीधे आपके इ मेल पर भेज सकें 


Share To:

Atoot bandhan

Post A Comment:

2 comments so far,Add yours

  1. बहुत ही भावपूर्ण तथा प्रेरणास्पद कहानी... पढ़ते हुए तो ऐसा महसूस हो रहा था कि आपने मुझे ही कहानी का पात्र बना दिया हो!
    बधाई वंदना जी!

    ReplyDelete
  2. धन्यवाद किरण जी

    ReplyDelete