मुझे मिला वो, मेरा नसीब है

1
42

मुझे मिला वो, मेरा नसीब है



मुझे मिला वो, मेरा नसीब है 
वही सुकून जहां वो करीब है 
मैं और क्या भला चाहूंगी 
जब प्यार से उसके भर गई ।

उसने जो कहा मैंने मान ली 
नज़र की हरकतें पहचान ली 
जिस राह उसके कदम बढ़े 
बनी फूल और मैं बिखर गई ।

वह मोड़ जहां टकराए हम
बने जिस्म, जिस्म के साये हम 
मेरा वक्त आगे बढ़ गया 
पर मैं वहीं पर ठहर गई ।

जीवन उसी पर वार के 
मैं खुश हूं खुद को हार के
उसने देखा जैसे प्यार से 
मेरी रूह तक निखर गई।

आ जाए तो उसे प्यार दूं 
मेरे यार सदका उतार लूं
डर है नजर लग जाएगी 
गर उसपर कोई नजर गई ।।  


साधना सिंह 

लेखिका -साधना सिंह


यह भी पढ़ें …


आपको  कविता  . डायरी के पन्नों में छुपा तो लूँ.. कैसी लगी   | अपनी राय अवश्य व्यक्त करें | हमारा फेसबुक पेज लाइक करें | अगर आपको “अटूट बंधन “ की रचनाएँ पसंद आती हैं तो कृपया हमारा  फ्री इ मेल लैटर सबस्क्राइब कराये ताकि हम “अटूट बंधन”की लेटेस्ट  पोस्ट सीधे आपके इ मेल पर भेज सकें | 




filed under: , poetry, hindi poetry, kavita,


1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here