बाॅलीवुड----एक बेवा बिखराव है
बाॅलीवुड---------- नरगिस और राज कपुर का अलगाव है, गुरुदत्त की ख़ुदकुशी है, तो घुट-घुट के दुनिया से विदा हुई------ मीना कुमारी के सीने का घाव है। बाॅलीवुड---------- आँसू और ड्रामा है नही, ये उस काका के आनंद का किरदार है, जो बाबु मोशाय के बाद-------- एक तन्हा कोठरी में तड़पता और घुटता, एक शराबी--------- की पिड़ाओ का गैंग्रीनी पाँव है। बाॅलीवुड---------- वे परवीन बाॅबी है जिसे कई महेश भट्ट ने चाहा जरुर, पर तन्हा छोड़ दिया! वे डिप्रेस्ड बंद कमरे में छ दिनो तलक, मरी पड़ी रही बीना किसी वारिस के, सच तो ये है कि बाॅलीवुड------- एक औरत की अधुरी ख्वा़हिशो का, वही परवीन बाॅबी वाली सडी लाश की तरह, अपने बिस्तर पर पड़ी---------- एक बेवा बिखराव है। @@@रचयिता-----रंगनाथ द्विवेदी। जज कालोनी,मियाँपुर जौनपुर



Share To:

atoot bandhan

Post A Comment:

0 comments so far,add yours