Thursday, February 27, 2020
Home 2018 June

Monthly Archives: June 2018

दो जून की रोटी

एक इंसान के जीने के लिए पहली आवश्यकता क्या है .. बस "दो जून रोटी " उसका सारा संघर्ष इसी के इर्द गिर्द बिखरा...

पूरक एक दूजे के

 आज पितृ दिवस पर मैं अपने पिता को अलग से याद नहीं कर पाउँगी , क्योंकि माता -पिता वो जीवन भर एक दूसरे के...

आप पढेंगे न पापा

पिता होते हैं अन्तरिक्ष की तरह..... जो व्यक्तित्व को विस्तार देते हैं , जहाँ माँ सींचती है प्रेम से और संतान में में भारती...

चूड़ियाँ ईद कहती है

ईद का मुबारक मौका हो तो प्रियतमा अपने प्रिय की बाँट जोहती ही है और कहती है कि इस मौके पर तो कम से...

झाड़ू वाले की नकली बीबी और मेरे 500 रुपये

इतिहास गवाह है कि कालिदास हो, अल्वा एडिसन या आइन्स्टाइन सबने  शुरुआत में बहुत मूर्खताएं की हैं, मने मेरी मुर्खताको  बुद्धिमानी की और बढ़ता...

सपने देखना भी एक हुनर है

    कौन है जो सपने नहीं देखता , पर क्या हमारे सब सपने पूरे होते हैं |  कुछ लोग जीवन में आने वाली...

पिता…..जुलाहा……रखवाला

पिता ... इस शब्द से ही मन में गहरा प्रेम उमड़ता है | पिता एक आसमान है जो हर तकलीफ से संतान  रक्षा करता...

कन्यादान

इन दिनों शादियों का मौसम चल रहा है और पिछले कई सदियों से शादियों में कुछ बदला है तो बस उनका ताम झाम. बाकि सब...

उल्टा दहेज़

हमारे समाज में विवाह में वर पक्ष द्वारा दहेज़ लेना एक ऐसी परंपरा है जो  लड़कियों को लड़कों से कमतर सिद्ध करती है |...

फैसला

आज भारतीय नारी बदल चुकी है | आज वो , वो फैसला लेने की हिम्मत रखती है जिसे वर्षों पहले लेने के बारे में...

MOST POPULAR

HOT NEWS

error: Content is protected !!