आज डिजिटल युग में भी हमने किताबों के स्थान पर ऑनलाइन पढना शुरू कर दिया है ....पर क्या वही सुकून उसमें भी मिलता है |


कविता किताबें


ऑनलाइन पढने में और किताब हाथ लेकर पढने में वहीँ अंतर है जो किसी मित्र से रूबरू मिलने और फोन पर बात करने में है | ऑनलाइन रीडिंग की सुविधाओं के साथ कुछ तो है जो अनछुआ रह जाता हैं | एक तरफ हम  उन भावों की कमी से जूझते रहते हैं , दूसरी तरफ किताबिन शोव्केस में सजी हमारा रास्ता निहारी रहतीं हैं | क्या कहतीं हैं वो ....वक्त मिले तो पास बैठ कर सुनियेगा ....

किताबें 


किताबें  सबसे प्रिय मित्र ,संगी- साथी और मार्गदर्शक होते थे उन दिनों । 
बचपन में लोरी बन कर हमें हंसाते थे , गुदगुदाते थे , बहलाते थे , सुलाते थे ।

जवानी में लिपटकर सीने से 
कल के सपने सजाते थे
रूमानी ख़्वाब दिखाते थे तो कभी डाकिया बन जाते थे । 

बुढ़ापे के अकेलेपन में 
गीता के श्लोक सुनाते थे, जीने की राह दिखाते थे ,  ईश्वर से मिलाते थे । 

पर आजकल डिजिटल संसार में 
सबसे कोने वाली सेल्फ में 
सजी रहती है किताबें 
आते जाते सबको तकती रहती है किताबें 
ज़रा ग़ौर से सुनो तो 
कितना कुछ कहती रहती है किताबें । 

साधना सिंह
गोरखपुर


लेखिका साधना सिंह



यह भी पढ़ें ....





आपको  कविता   "किताबें "   लगी   | अपनी राय अवश्य व्यक्त करें | हमारा फेसबुक पेज लाइक करें | अगर आपको "अटूट बंधन " की रचनाएँ पसंद आती हैं तो कृपया हमारा  फ्री इ मेल लैटर सबस्क्राइब कराये ताकि हम "अटूट बंधन"की लेटेस्ट  पोस्ट सीधे आपके इ मेल पर भेज सकें |   


filed under-poem, hindi poem, books 

Share To:

atoot bandhan

Post A Comment:

1 comments so far,Add yours